समाचार
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने वियतनाम को 12 हाई स्पीड गार्ड बोट सौंपी

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार (9 जून) को हाई फोंग में हांग हा शिपयार्ड की अपनी यात्रा के दौरान वियतनाम को 12 हाई स्पीड गार्ड बोट सौंपी।

बोट का निर्माण वियतनाम को भारत सरकार की 10 करोड़ डॉलर की रक्षा ऋण सहायता के तहत किया गया है।

शुरुआती पाँच बोट भारत में लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) शिपयार्ड में और अन्य सात हांग हा शिपयार्ड में निर्मित हुईं।

रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि भारत और वियतनाम के वरिष्ठ नागरिक और सैन्य अधिकारी इस समारोह के दौरान उपस्थित थे।

वियतनाम की तीन दिवसीय यात्रा पर उपस्थित राजनाथ सिंह ने अपने संबोधन में इस परियोजना को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा परिकल्पित ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’ का एक बेहतरीन उदाहरण बताया।

उन्होंने कहा, “कोविड-19 की चुनौतियों के बावजूद परियोजना का सफल समापन भारतीय रक्षा विनिर्माण क्षेत्र के साथ हांग हा शिपयार्ड की प्रतिबद्धता और पेशेवर उत्कृष्टता का प्रमाण है।”

उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह परियोजना भविष्य में भारत और वियतनाम के मध्य कई और सहकारी रक्षा परियोजनाओं का अग्रदूत का काम करेगी।”

राजनाथ सिंह ने वियतनाम को बढ़े हुए सहयोग के माध्यम से भारत के रक्षा औद्योगिक परिवर्तन का भाग बनने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने बल देकर कहा, “भारतीय रक्षा उद्योग ने प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत दृष्टिकोण के तहत अपनी क्षमताओं में काफी वृद्धि की है।”

उन्होंने ज़ोर देकर कहा, “इसका उद्देश्य भारत को एक रक्षा विनिर्माण केंद्र बनाने के लिए एक घरेलू उद्योग का निर्माण करना है, जो ना केवल घरेलू जरूरतों को पूरा करता है बल्कि अंतर-राष्ट्रीय आवश्यकताओं को भी पूरा करता है।”