समाचार
शंघाई के उदाहरण के बाद बीजिंग में नए दौर के परीक्षण को लेकर लोगों में अफरा-तफरी

चीन के शंघाई में महीने भर की कठोर तालाबंदी से वहाँ के नागरिकों में रोष पैदा हो गया है। बीजिंग में बड़े पैमाने पर लोगों के परीक्षण का एक नया दौर शुरू हो गया। शंघाई के हाल देखने के बाद बीजिंग के लोग भविष्य की चिंताओं के डर से दैनिक आवश्यक वस्तुओं को एकत्र करने के लिए भाग रहे हैं।

2019 में वुहान के प्रकोप के बाद से चीन कोविड-19 मामलों के अपने सबसे खराब समय से गुज़र रहा है। 2.5 करोड़ की आबादी वाले शंघाई ने 1 मई को 7,333 नए मामले दर्ज किए थे। सबसे जटिल तालाबंदी के प्रतिबंधों की वजह से लोगों को एक महीने से अधिक समय तक घरों के अंदर रहना पड़ा था।

कुछ जारी हुए विरोध के दुर्लभ ऑनलाइन वीडियो में शंघाई के लोगों को चिल्लाते व अपशब्द निकालते हुए देखा गया है। वीडियो में लोगों द्वारा अधिकारियों को अपने अपार्टमेंट की बालकनियों से हताशा में कोसते हुए दिखाया गया।

शंघाई के संकट के बाद बीजिंग अब नए कोविड-19 के बढ़ते मामलों के केंद्र के रूप में उभर रहा है। परिणामस्वरूप, चीन की शून्य कोविड नीति के अनुरूप शहर के सभी रेस्त्रां, खान-पान सुविधाओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया। जिम, मॉल, थिएटर और प्रमुख पर्यटन स्थलों जैसे फॉरबिडन सिटी और बीजिंग चिड़ियाघर जैसे सार्वजनिक मार्गों तक को बंद कर दिया गया।

मई दिवस की छुट्टी के अवसर पर बीजिंग में अधिकारियों ने लाखों लोगों का सामूहिक परीक्षण किया था। बिजिंग का चाओयांग जिला सबसे बड़ा नाइटलाइफ और दूतावासों का केंद्र है, जो सबसे अधिक संक्रमण के लिए ज़िम्मेदार है।

ऑनलाइन अनौपचारिक रिपोर्ट में बताया कि हवाई अड्डे के पास एक केंद्रीकृत संगरोध केंद्र में हजारों बिस्तर तैयार हैं लेकिन देश की मीडिया ने इन तैयारियों की पुष्टि सार्वजनिक भय के प्रयास से बचने हेतु नहीं की।

ताजा खबर में शंघाई ने महत्वपूर्ण गाओकाओ परीक्षा को स्थगित कर दिया है, जबकि बीजिंग ने परीक्षण के एक नए दौर की घोषणा की है।