समाचार
विद्युत मांग पूर्ण करने हेतु गत वर्ष की अपेक्षा मई 2022 में कोयला उत्पादन में 34% वृद्धि

विद्युत की बढ़ती मांग को पूरा करने के प्रयासों का संकेत देते हुए मई 2021 की तुलना में मई 2022 के दौरान भारत का कोयला उत्पादन 33.88 प्रतिशत बढ़कर 7.13 करोड़ टन (एमटी) हो गया। इस दौरान 53.25 एमटी कोयले का उत्पादन किया गया।

कोयला मंत्रालय के अनंतिम आँकड़ों के अनुसार, मई 2022 के दौरान कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल), सिंगरेनी कोलियरीज कंपनी लिमिटेड (एससीसीएल) और कैप्टिव खानों-अन्य ने क्रमशः 54.72 एमटी, 6.04 एमटी और 10.54 एमटी का उत्पादन करके 30.04 प्रतिशत, 11.01 प्रतिशत और 83.33 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।

मई 2020 की तुलना में मई 2022 के दौरान कोयला प्रेषण 16.05 प्रतिशत बढ़कर 77.83 एमटी हो गया।

गत माह सीआईएल, एससीसीएल और बंदी/अन्य ने क्रमशः 61.24 एमटी, 6.13 एमटी और 10.46 एमटी प्रेषण करके 11.34 प्रतिशत, 5.66 प्रतिशत और 67.06 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की।

शीर्ष 37 कोयला उत्पादक खानों में से 23 ने 100 प्रतिशत से अधिक उत्पादन किया, अन्य दस खानों का प्रदर्शन 80 से 100 प्रतिशत के मध्य रहा।

मई 2022 में कोयला आधारित बिजली उत्पादन ने मई 2021 की तुलना में 26.18 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। हालाँकि, मई 2022 में कोयला आधारित बिजली उत्पादन अप्रैल 2022 में 1,02,529 एमयू की तुलना में 98,609 एमयू था और 3.82 प्रतिशत की नकारात्मक वृद्धि दर्ज की गई।

फिर भी हाइड्रो और पवन ऊर्जा के कारण मई 2022 में कुल बिजली उत्पादन अप्रैल 2022 में 1,36,465 एमयू से बढ़कर 1,40,059 एमयू हो गया है। मई 2022 में कुल बिजली उत्पादन अप्रैल 2022 में उत्पन्न विद्युत की तुलना में 2.63 प्रतिशत अधिक था।