समाचार
मुख्यमंत्री योगी ने कोविड-19 महामारी में दर्ज प्राथमिकियों को वापस लेने का निर्णय लिया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बढ़ते कोविड-19 के मामलों के दौरान महामारी अधिनियम में दर्ज प्राथमिकियों को अब वापस लेने का निर्णय लिया है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, योगी आदित्यनाथ ने कहा, “कोविड महामारी अधिनियम के उल्लंघन से जुड़ी प्राथमिकियों को समाप्त किया जाना चाहिए। गृह विभाग की ओर से इस संबंध में आवश्यक कार्यवाही की जाए।”

उन्होंने कहा, “थाना और सर्किल सहित फील्ड में तैनात अवैध गतिविधियों में संलिप्त, खराब रिकॉर्ड वाले दागी पुलिस कर्मियों की सूची जितनी जल्दी हो सके तैयार की जाए और उसे प्रस्तुत किया जाए। ऐसे पुलिस कर्मी उत्तर प्रदेश पुलिस की छवि खराब करने वाले हैं। सभी के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अपर मुख्य सचिव व डीजीपी से भ्रष्टाचार में संलिप्त रहने वालों को उप्र पुलिस का हिस्सा नहीं रहने के निर्देश दिए।”

मुख्यमंत्री ने नवनियुक्त तहसीलदारों से कहा, “हमने पारदर्शी भर्ती की है। सरकार की आपसे अपेक्षा है कि पारदर्शी ढंग से काम करें। कल्याणकारी सरकार और सुशासन की धुरी ही थाना और तहसील हैं। नए नायब तहसीलदारों के आने से जनसुनवाई को गति मिलेगी।”