समाचार
अफगान संकट पर अजीत डोभाल पड़ोसी देशों से बोले, “यह समय सहयोग, समन्वय का”

एनएसए अजीत डोभाल ने बुधवार (10 नवंबर) को अफगान संकट पर भारत द्वारा आयोजित 8 देशों की वार्ता में कहा कि अफगानिस्तान में हाल के घटनाक्रम ना केवल उस देश के लोगों बल्कि उसके पड़ोसियों और क्षेत्र पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं।

डोभाल ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए अपने भाषण में कहा कि यह अफगान स्थिति पर क्षेत्रीय देशों के मध्य घनिष्ठ परामर्श, अधिक सहयोग और समन्वय का समय है।

अफगानिस्तान पर दिल्ली क्षेत्रीय सुरक्षा वार्ता में रूस, ईरान, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, तजाकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और उजबेकिस्तान के सुरक्षा अधिकारी भाग ले रहे हैं।

भारत वार्ता की मेजबानी तालिबान के काबुल के अधिग्रहण के बाद आतंकवाद, कट्टरपंथी और मादक पदार्थों की तस्करी के बढ़ते खतरों का सामना करने में व्यावहारिक सहयोग हेतु एक सामान्य दृष्टिकोण को सशक्त बनाने को कर रहा है।

अजीत डोभाल ने कहा, “हम आज अफगानिस्तान से संबंधित मामलों पर चर्चा करने के लिए बैठक कर रहे हैं। हम सभी उस देश के घटनाक्रम पर गौर से देख रहे हैं। इनका न केवल अफगानिस्तान के लोगों बल्कि उसके पड़ोसियों और क्षेत्र के लिए भी महत्वपूर्ण निहितार्थ हैं।”

एनएसए को अपेक्षा थी कि विचार-विमर्श फलदायी होगा। उन्होंने कहा, “यह हमारे मध्य गहन विचार-विमर्श का समय है। मुझे विश्वास है कि हमारे विचार-विमर्श उत्पादक, उपयोगी होंगे और अफगानिस्तान में लोगों की सहायता करने और हमारी सामूहिक सुरक्षा को बढ़ाने में योगदान देंगे।”