समाचार
विद्युत, कोविड संकट से प्रभावित चीन की कारखाना गतिविधि लगातार दूसरे माह भी घटी

चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने बताया कि विद्युत संकट, कमजोर मांग, नए कोविड-19 मामलों के उभरने और कच्चे माल के ऊँचे मूल्यों से प्रभावित देश में कारखाना गतिविधियाँ अक्टूबर में कम हो गई हैं।

राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के रविवार को आए आँकड़ों से जानकारी मिलती है कि चीन के विनिर्माण क्षेत्र के लिए क्रय प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) अक्टूबर में 49.2 पर आ गया था, जो सितंबर में 49.6 था।

50 से ऊपर का जाना विस्तार को दर्शाता है, जबकि नीचे जाना संकुचन को दर्शाता है। विद्युत की कमी और कच्चे माल के ऊँचे मूल्यों की वजह से सितंबर में चीन का कारखाना उत्पादन मार्च 2020 के बाद से सबसे कमज़ोर गति से बढ़ा।

चीन का आधिकारिक समग्र पीएमआई अक्टूबर में, जिसमें विनिर्माण और सेवा गतिविधियाँ दोनों सम्मिलित हैं, सितंबर के 51.7 से कम होकर 50.8 पर रहा।

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में पिनपॉइंट एसेट मैनेजमेंट के मुख्य अर्थशास्त्री झीवेई झांग के हवाले से कहा गया, “2008-09 में वैश्विक वित्तीय संकट की अवधि और फरवरी 2020 में कोविड के प्रकोप को छोड़कर 2005 में प्रकाशित होने के बाद से उत्पादन सूचकांक सबसे निचले स्तर पर आ गया है।”

रियल एस्टेट संकट और ऊर्जा की कमी से जूझ रहे चीन की अर्थव्यवस्था में एक वर्ष पहले की समान अवधि की तुलना में 2021 की तीसरी तिमाही में 4.9 प्रतिशत की धीमी वृद्धि हुई।

चौथी तिमाही की जीडीपी वृद्धि की संभावनाएँ भी गंभीर आपूर्ति पक्ष चुनौतियों का सामना कर रही हैं, जो पूरे 2021 के लिए चीन की जीडीपी वृद्धि को और नीचे खींच सकती हैं।