समाचार
चीन ने किया भूमि-आधारित मिसाइल अवरोधन का सफल परीक्षण, बताया रक्षात्मक उद्देश्य

चीन ने एक भूमि-आधारित मिसाइल अवरोधन का सफल परीक्षण किया है। देश के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि नई मिसाइल का परीक्षण केवल रक्षात्मक उद्देश्य के लिए किया गया है। इसका निर्माण किसी विशेष देश को निशाना बनाने के लिए नहीं किया गया है।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग की महत्वाकांक्षी आधुनिकीकरण योजना के तहत अंतरिक्ष में उपग्रहों को नष्ट करने वाली मिसाइलों से लेकर उन्नत परमाणु-टिप वाली बैलिस्टिक मिसाइलों तक सभी प्रकार की मिसाइलों के परीक्षणों में देश तेजी ला रहा है।

बीजिंग इससे पूर्व फरवरी 2021 और 2018 में भी भूमि-आधारित मिसाइल अवरोधन का परीक्षण कर चुका है। चीनी सरकारी मीडिया ने बताया कि देश ने सबसे पहले 2010 में मिसाइल रोधी प्रणाली का परीक्षण किया था।

मंत्रालय ने रविवार देर रात एक संक्षिप्त बयान में कहा कि रात में भूमि आधारित मिडकोर्स एंटी-मिसाइल इंटरसेप्ट टेक्नोलॉजी परीक्षण किया गया था।

मंत्रालय ने कहा, “परीक्षण अपने अपेक्षित लक्ष्यों तक पहुँच गया। यह परीक्षण रक्षात्मक था और किसी भी देश पर हमला करने के उद्देश्य से नहीं था।” इसके अतिरिक्त उसने कोई अन्य विवरण नहीं दिया।

चीन अपने सहयोगी रूस के साथ दक्षिण कोरिया में टर्मिनल हाई एल्टीट्यूड एरिया डिफेंस (थाड़) मिसाइल रोधी प्रणाली की अमेरिकी तैनाती का बार-बार विरोध करता रहा है।

चीन ने तर्क दिया कि उपकरण का शक्तिशाली राडार उसके क्षेत्र में प्रवेश कर सकता है। चीन और रूस ने नकली मिसाइल रोधी अभ्यास भी किया है।