समाचार
चीन ने टेक कंपनियों पर पकड़ मजबूत करने के लिए एल्गोरिदम को नियंत्रण में लिया

चीनी नियामकों ने टेक कंपनियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले एल्गोरिदम अनुशंसाओं को लक्षित करने वाले नियमों के एक नए सेट का अनावरण किया। नए नियम 1 मार्च से लागू होंगे। यह कदम दावा करता है कि एल्गोरिदम सेवाओं के सतत विकास को बढ़ावा देगा और पर्यवेक्षण को मजबूत करेगा।

इस नियंत्रण को अलीबाबा, टेनसेंट और बाइटडांस सहित बड़ी चीनी टेक कंपनियों के लिए बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि इन अल्गोरिदम से पता चलता है कि उपयोगकर्ता क्या पढ़ते हैं, देखते हैं और ऑनलाइन खरीदते हैं।

चीन के साइबरस्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ऑफ चाइना (सीएसी) द्वारा मंगलवार को जारी नियम निर्दिष्ट करते कि सेवा प्रदाताओं को पर्यवेक्षण व प्रबंधन को दरकिनार करने के लिए नेटवर्क जनमत को प्रभावित करने या एकाधिकार तरीके से कार्य करने और अनुचित प्रतिस्पर्धा में संलग्न होने के लिए एल्गोरिदम का उपयोग नहीं करते हैं।

नए नियम उपयोगकर्ता व्यवहार डाटा के आधार पर मूल्य निर्धारण और अन्य लेन-देन शर्तों में अनुचित भेदभाव को भी मना करते हैं, जो चीन के कुछ सबसे बड़े ई-कॉमर्स व लघु-वीडियो मंचों के लिए एक प्रमुख मुद्रीकरण तंत्र है।

सीएसी के एक बयान के अनुसार, नया विनियमन एल्गोरिदमिक भेदभाव को रोकना चाहता है, जिसके कारण उत्पादों और सेवाओं के अलग-अलग मूल्य निर्धारण हुए हैं। कुछ इंटरनेट मंच उपभोक्ताओं की खर्च करने की आदतों के आँकड़ों के आधार पर उपभोक्ताओं से अतिरिक्त शुल्क वसूलते रहे हैं।

उपभोक्ताओं को ऐप्स पर एल्गोरिदम अनुशंसाओं को बंद करने और उन्हें लक्षित करने के लिए एल्गोरिदम द्वारा उपयोग किए जाने वाले कीवर्ड देखने या हटाने का अधिकार होगा।