समाचार
चीन ने तालिबान के नियंत्रण वाले अफगानिस्तान की आर्थिक सहायता के संकेत दिए

चीन ने सोमवार (23 अगस्त) को संकेत दिए कि वह तालिबान के नियंत्रण वाले अफगानिस्तान को वित्तीय सहायता प्रदान करेगा।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, चीन ने कहा कि जब तक अफगान आतंकवादी समूह अपनी कट्टरपंथी धार्मिक नीतियों को संशोधित नहीं करता, तब तक काबुल को विभिन्न देशों द्वारा वित्तीय मदद रोके जाने के मध्य वह युद्धग्रस्त देश की सहायता करने में सकारात्मक भूमिका निभाएगा।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने संवाददाता सम्मेलन में अमेरिका पर निशाना साधते हुए कहा, “अमेरिका, अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण के लिए कुछ किए बिना उसे ऐसी परिस्थितियों में छोड़कर नहीं जा सकता है।”

निर्वासन में रह रहे अफगानिस्तान के सेंट्रल बैंक के प्रमुख द्वारा वित्तीय सहायता के लिए अमेरिकी मदद रुकने के कारण तालिबान चीन और पाकिस्तान का रुख करेगा, इस पर वेनबिन ने कहा, “मैं स्पष्ट तौर पर कहना चाहता हूँ कि अफगान मुद्दे के लिए अमेरिका मुख्य गुनहगार और सबसे बड़ा बाह्य कारक है। हम अपेक्षा करते हैं कि अमेरिका मानवीय सहायता और पुनर्निर्माण के अपने वचन को निभाएगा और प्रतिबद्धताओं से मुंह नहीं मोड़ेगा।”

उन्होंने आगे कहा, “चीन हमेशा सभी अफगान लोगों के प्रति मैत्रीपूर्ण नीति अपनाता और अफगानिस्तान को सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए पर्याप्त सहायता प्रदान करता रहा है। हम आशा करते हैं कि देश में अराजकता और युद्ध जल्द समाप्त होगा और यह देश जल्द वित्तीय व्यवस्था को पुनः आरंभ कर सकता है। चीन क्षमता निर्माण, शांति, पुनर्निर्माण और लोगों की आजीविका स्थिति में सुधार के लिए भी सकारात्मक भूमिका निभाएगा।”