समाचार
भारत से वार्ता निष्फल होने के बाद चीन ने एलएसी के पास अभ्यास का वीडियो जारी किया

पूर्वी लद्दाख में भारत व चीन के मध्य बचे हुए घर्षण बिंदुओं पर सेना वापसी को लेकर 13वें दौर की कोर कमांडर स्तर की वार्ता के निष्फल होने के एक दिन बाद पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास टैंक युद्धाभ्यास और फायरिंग अभ्यास का वीडियो जारी किया।

इसकी जानकारी सोमवार (11 अक्टूबर) को चीन के स्वामित्व वाले मीडिया ने दी। एक रिपोर्ट में कहा गया कि यह अभ्यास 5,000 मीटर से अधिक की ऊँचाई पर काराकोरम में एक प्रशिक्षण क्षेत्र में हुआ। इसमें शिनजियांग सैन्य क्षेत्र की एक टैंक कंपनी ने भाग लिया था।

गोलाबारी अभ्यास में टैंक साइड शूटिंग, सिंगल-व्हीकल कॉम्बैट शूटिंग, बैकवर्ड कॉम्बैट शूटिंग, टैंक प्लाटून शूटिंग सम्मिलित थे।

चीनी सरकार द्वारा नियंत्रित प्रसारक सीसीटीवी की एक रिपोर्ट में कहा गया, “इस अभ्यास ने पठार पर अत्यधिक सर्दी के मौसम में उपकरणों के उपयोग पर प्रकाश डाला और सैनिकों की युद्ध क्षमता में प्रभावी रूप से सुधार किया।”

हालाँकि, चीनी मीडिया ने यह प्रकट नहीं किया कि अभ्यास कब किया गया था। रविवार (10 अक्टूबर) को करीब 8.30 घंटे तक चली कोर कमांडर-स्तरीय बैठक में दोनों पक्षों के किसी परिणाम तक पहुँचने में असफल रहने के एक दिन पश्चात एक प्रशिक्षण क्षेत्र में टैंकों के युद्धाभ्यास और फायरिंग के वीडियो जारी किए गए थे, जो लद्दाख से मेल खाते थे।

विशेषज्ञों ने कहा कि चीन द्वारा वीडियो जारी करने का उद्देश्य सेना वापसी पर वार्ता विफल होने के एक दिन बाद यह सुझाव देना हो सकता है कि वह एलएसी पर लंबी तैनाती के लिए तैयार है।

30 सितंबर को शिनजियांग सैन्य कमान के तहत एक रेजिमेंट के एक तोपखाने दल ने एक लाइव-फायर प्रशिक्षण अभ्यास में भाग लिया था।