समाचार
चेन्नै हवाई अड्डे का छह करोड़ वार्षिक यात्रियों की सुविधा हेतु विस्तार, बनेगा मास्टर प्लान

वर्तमान में 1,317 एकड़ में फैले चेन्नई हवाई अड्डे का विस्तार जल्द ही आगामी 50 वर्षों के लिए मास्टर प्लान तैयार करने की योजना के साथ 6 करोड़ यात्रियों की क्षमता (एमपीपीए) तक पहुँचने के लिए किया जाएगा।

प्राधिकरण अगले छह माह के भीतर एक मास्टर प्लान तैयार करने के लिए एक सलाहकार को नियुक्त करने की योजना बना रहा है।

हवाईअड्डा निदेशक डॉ शरद कुमार ने कहा, “आधुनिकीकरण से यह 3.5 करोड़ यात्रियों को संभालने में सक्षम होगा। 5 से 6 करोड़ यात्रियों को संभालने के लिए बाद में इसका विस्तार होगा।

उन्होंने कहा, “हम टर्मिनल और कार्गो कॉम्प्लेक्स का निर्माण करेंगे। मांग के चरम पर पहुँचने से पूर्व हमारे पास हैंडलिंग क्षमता होनी चाहिए।”

चेन्नै के लिए एक नया हवाईअड्डा बनाने के बाद भी वर्तमान हवाईअड्डे के चालू रहने की अपेक्षा है क्योंकि इस सुविधा के विस्तार में मौजूदा निवेश बेकार नहीं जाएगा।

तमिलनाडु सरकार ने राज्य की राजधानी हेतु दूसरे हवाई अड्डे के लिए चार स्थलों, परांदूर, पन्नूर, थिरुपुरूर और पदलम पर अपना ध्यान केंद्रित किया है।

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र सरकार ने श्रीपेरंबुदूरी से 30 किलोमीटर से भी कम दूरी पर परंदूर और पन्नूर को चयनित किया है।

माना जा रहा कि चेन्नै हवाई अड्डे का नया एकीकृत टर्मिनल अगस्त तक तैयार होगा और इस वर्ष अक्टूबर तक इसका उपयोग किया जा सकता है।

दो चरणों में निर्माणाधीन नया टर्मिनल चेन्नै हवाई अड्डे को संभालने की क्षमता को प्रति वर्ष 2.1 करोड़ यात्रियों से बढ़ाकर 3.5 करोड़ यात्री प्रति वर्ष कर देगा।

परियोजना की अनुमानित लागत 2,467 करोड़ रुपये है। इसमें एक बहु-स्तरीय मशीनीकृत कार पार्क और मेट्रो रेल का एकीकरण भी सम्मिलित है।

दो लाख वर्ग मीटर से अधिक के कुल क्षेत्रफल वाले नए एकीकृत टर्मिनल का उपयोग अंतर-राष्ट्रीय और घरेलू दोनों परिचालनों के लिए किया जाएगा।