समाचार
चंद्रयान-3 प्राप्ति के उन्नत चरण में, 2022 की दूसरी तिमाही में लॉन्च का लक्ष्य- केंद्र

संसद को गुरुवार (9 दिसंबर) को बताया गया कि भारत का तीसरा चंद्र अभियान चंद्रयान-3 कार्यान्वयन के उन्नत चरणों में है और इसे वित्तीय वर्ष 2022-23 की दूसरी तिमाही में लॉन्च करने का लक्ष्य रखा गया है।

राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा, “चंद्रयान-3 अभियान प्राप्ति के अग्रिम चरण में है। प्रणोदन मॉड्यूल और रोवर मॉड्यूल दोनों के सभी प्रणालियों को प्राप्त एवं एकीकृत किया गया है और उनका परीक्षण किया गया है।”

उन्होंने कहा, “लैंडर मॉड्यूल में अधिकतर प्रणालियों को लागू कर दिया गया है और परीक्षण जारी हैं। चंद्रयान-3 को वित्त वर्ष 2022-2023 की दूसरी तिमाही में लॉन्च करने का लक्ष्य है।”

उन्होंने कहा, “चंद्रयान-3 लैंडर पर एकीकृत संवेदकों और नौवहन संबंधी कार्य निष्पादन परीक्षण पूरे कर लिए गए हैं व अन्य परीक्षण प्रगति पर हैं। सभी निर्धारित परीक्षण चंद्रयान-3 के प्रक्षेपण से पहले पूरे कर लिए जाएँगे।”

एक अलग प्रश्न के लिखित उत्तर में सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार के पास वर्तमान में चंद्रमा पर एक मानव-अभियान भेजने का कोई प्रस्ताव नहीं है और इसके लिए किसी भी प्रस्ताव पर गगनयान कार्यक्रम के शुभारंभ के बाद विचार किया जाएगा, जो भारत का पहला मानवयुक्त अंतरिक्ष अभियान होगा।

सिंह ने कहा, “गगनयान कार्यक्रम के प्रदर्शन के बाद पृथ्वी की निचली कक्षा से परे मानव उपस्थिति का विस्तार करने के लिए कोई प्रस्ताव या अध्ययन लिया जा सकता है।”