समाचार
केंद्र ने न्यायालय को बताया, कोविड मृतक के परिजनों को मिलेगा ₹50,000 मुआवजा

केंद्र सरकार ने बुधवार (22 सितंबर) को सर्वोच्च न्यायालय को जानकारी दी कि कोविड-19 से मरने वालों के परिजनों को 50,000 रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। यह राशि राज्य अपने आपदा राहत कोष से देगी।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्र सरकार के अधीन काम करने वाली राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीआरएफ) ने सर्वोच्च न्यायालय में हलफनामा दाखिल कर कोविड से जुड़ी मौतों पर मुआवजे की राशि और प्रक्रिया के बारे में जानकारी दी।

इससे पूर्व, सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दाखिल करके मांग की गई थी कि कोविड से मरने वालों के परिवार को 4 लाख रुपये मुआवज़ा दिया जाए। नियमतः प्राकृतिक आपदा से मरने वालों के परिवार को 4 लाख रुपये मुआवज़ा मिलता है लेकिन जिस संख्या में कोरोना से लोगों की मौत हुई है, उसके बाद केंद्र ने मुआवजा देने से मना कर दिया था।

केंद्र ने पहले मुआवजे से भारी नुकसान की बात कही थी लेकिन सर्वोच्च न्यायालय के दबाव के बाद एनडीआरएफ ने बताया कि कोविड से मरने वालों के परिवारवालों को 50,000 रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। इसके लिए पीड़ित परिवार को आपदा प्रबंधन कार्यालय में आवेदन करना होगा। महामारी के दौरान संक्रमण से होने वाली मौतों के संबंध में मुआवजे की प्रक्रिया जारी रखी जाएगी।