समाचार
जम्मू-कश्मीर में अवैध बंदूकों पर आईएएस सहित 40 स्थानों पर सीबीआई का छापा

सीबीआई ने शनिवार (24 जुलाई) को जम्मू-कश्मीर के 40 स्थानों पर बंदूक लाइसेंस की अवैध बिक्री को लेकर छापा मारा। इस कार्रवाई में केंद्र शासित प्रदेश के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी शाहिद इकबाल चौधरी के आवास भी सम्मिलित हैं।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, सीबीआई करीब आठ पूर्व उपायुक्तों की जाँच कर रही है। इसमें शाहिद इकबाल चौधरी भी हैं, जिन पर कथित तौर पर राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लोगों को गलत नामों से हज़ारों लाइसेंस जारी किए।

शाहिद वर्तमान में सचिव (जनजातीय मामले) और सीईओ मिशन यूथ, जम्मू-कश्मीर हैं। उन्होंने पूर्व में कठुआ, रियासी, राजौरी और उधमपुर जिलों के उपायुक्त के रूप में काम किया है। 2012 के बाद से केंद्र शासित प्रदेश में दो लाख से अधिक बंदूक के अवैध लाइसेंस जारी किए गए हैं।

गत वर्ष आईएएस अधिकारी राजीव रंजन सहित दो अधिकारियों को सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। रंजन और इतरत हुसैन रफीकी ने कुपवाड़ा जिले के उपायुक्त के रूप में अपने कार्यकाल में कथित रूप से ऐसे कई अवैध लाइसेंस जारी किए थे।

बता दें कि 2017 में इस भ्रष्टाचार का पहली बार पता राजस्थान के आतंकवाद निरोधी दस्ते ने लगाया था। उन्होंने रंजन के भाई और उसके व बंदूक के आपूर्तिकर्ताओं के बीच बिचौलिए के रूप में कार्य करने वाले लोगों को गिरफ्तार किया था।