समाचार
सीबीआई ने कार्ति चिदंबरम से वीजा भ्रष्टाचार मामले में लगातार तीसरे दिन पूछताछ की

सीबीआई ने लोकसभा सांसद कार्ति चिदंबरम से 2011 में तलवंडी साबो बिजली परियोजना के निर्माण में सम्मिलित चीनी श्रमिकों को 263 परियोजना वीजा जारी करने के लिए कथित 50 लाख रुपये की रिश्वत की जाँच के मामले में शनिवार को लगातार तीसरे दिन पूछताछ की।

अधिकारियों ने बताया कि कार्ति चिदंबरम जाँच एजेंसी की पूछताछ के लिए सुबह तड़के सीबीआई मुख्यालय पहुँचे। उन्होंने बताया कि दोपहर के भोजनावकाश के साथ पूरे दिन पूछताछ जारी रहने की संभावना है।

सीबीआई गुरुवार से कार्ति चिदंबरम से 11 वर्ष पुराने मामले में पूछताछ कर रही है, जिसे कांग्रेस नेता ने सबसे झूठा और राजनीतिक प्रतिशोध का परिणाम बताया है।

मामला 2011 का है, जब कार्ति चिदंबरम के पिता पी चिदंबरम केंद्रीय गृह मंत्री थे।

सीबीआई की प्राथमिकी में कहा गया कि जाँच एजेंसी ने कार्ति और अन्य के विरुद्ध वेदांता समूह की कंपनी तलवंडी साबो पावर लिमिटेड (टीएसपीएल) के एक शीर्ष अधिकारी द्वारा उन्हें और उनके करीबी एस भास्कररमन को 263 चीनी श्रमिकों के लिए परियोजना वीजा पुनः जारी करने हेतु 50 लाख रुपये की घूस दिए जाने के आरोप में 14 मई को प्राथमिकी दर्ज की थी।

टीएसपीएल पंजाब में विद्युत संयंत्र लगा रहा था।

प्राथमिकी में आरोप लगाया गया कि परियोजना वीजा 2010 में विद्युत और इस्पात क्षेत्र के लिए प्रस्तुत किया गया एक विशेष प्रकार का वीजा था, जिसके लिए विस्तृत दिशा-निर्देश केंद्रीय गृह मंत्री के रूप में पी चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान जारी किए गए थे। हालाँकि, परियोजना वीजा पुनः जारी करने का कोई प्रावधान नहीं था।

एजेंसी इस मामले में भास्कररमन को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है।