समाचार
नरेंद्र गिरि को धमकाने वाला आनंद का ऑडियो सीबीआई को मिला, 25 नवंबर को सुनवाई

प्रयागराज में महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध मौत की जाँच कर रहे केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने मामले में आरोप-पत्र दाखिल किया। जाँच एजेंसी ने खुलासा किया कि 23 मई को आरोपी आनंद गिरि, महंत रवींद्र पुरी और नरेंद्र गिरि के मध्य वार्ता में आनंद ने ऑडियो-वीडियो वायरल करने की धमकी दी थी।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, सीबीआई को धमकाने वाला ऑडियो प्राप्त हो गया है। मामले के खुलासे में वीडियो की महत्वपूर्ण भूमिका बताई जा रही है। आरोपी आनंद गिरि ने नरेंद्र गिरि को वार्ता के दौरान कहा था, “मैं वीडियो भेजूँगा तो आपके पैरों के नीचे से ज़मीन खिसक जाएगी।”

बताया गया है कि आनंद गिरि हरिद्वारा में निरंजनी अखाड़े के सचिव रवींद्र पुरी के पास पहुँचा था। रवींद्र ने आनंद और नरेंद्र गिरि के मध्य सुलह करवाने का प्रयास किया था। उन्होंने दोनों की वार्ता भी करवाई थी।

सीबीआई को आरोपी आनंद गिरि के मोबाइल से महंत नरेंद्र गिरि और रवींद्र पुरी के साथ हुई वार्ता की कई रिकॉर्डिंग प्राप्त हुई हैं। हालाँकि, अभी वीडियो के बारे में जानकारी नहीं हुई है कि उसमें क्या है।

महंत नरेंद्र गिरि को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी को मुख्य आरोपी बनाया गया। तीनों आरोपी 22 सितंबर से ही नैनी जेल में बंद हैं। न्यायालय ने सीबीआई द्वारा दायर आरोप-पत्र पर संज्ञान लेते हुए 25 नवंबर को मामले की सुनवाई की तिथि तय की है।