समाचार
सीबीआई ने गृह मंत्रालय-एनजीओ में एफसीआरए सांठ-गाँठ पर देश भर में छापेमारी की

सीबीआई ने एनजीओ और गृह मंत्रालय के कुछ अधिकारियों के मध्य कथित गठजोड़ को लेकर व्यापक कार्रवाई की। इसके तहत मंगलवार को देश भर में 40 स्थानों पर छापेमारी कर एक बड़ा अभियान चलाया गया, जो विदेशी अंशदान विनियम अधिनियम (एफसीआरए) से संबंधित मामलों की अवैध निकासी की सुविधा प्रदान कर रहा था।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, गृह मंत्रालय से मिली जानकारी के आधार पर कार्रवाई करते हुए सीबीआई ने कई गिरफ्तारियाँ भी कीं। इनमें गृह मंत्रालय के एफसीआरए डिविजन में तैनात सरकारी कर्मचारी भी सम्मिलित हैं, जो घूस लेते हुए पकड़े गए थे।

करीब छह सरकारी अधिकारियों से पूछताछ की जा रही। जाँच एजेंसी को अब तक कम से कम 2 करोड़ रुपये के हवाला लेन-देन का पता चला है।

गृह मंत्री अमित शाह के आदेश के अनुसार, 29 मार्च को सीबीआई निदेशक सुबोध कुमार जायसवाल को भेजे गए एक विस्तृत पत्र के बाद सीबीआई ने यह कार्रवाई की।

पत्र में तीन एफसीआरए क्लीयरेंस नेटवर्क की ओर संकेत किया गया, जो कथित तौर पर सरकारी अधिकारियों की मिलीभगत से काम कर रहे थे।

एक अधिकारी ने बताया, “गृह मंत्रालय की जानकारी के आधार पर सीबीआई अधिकारियों ने दिल्ली, राजस्थान, चेन्नै, हैदराबाद, कोयंबटूर और मैसूर में 40 स्थानों पर तलाशी ली, ताकि एनजीओ के प्रतिनिधियों, बिचौलियों और गृह मंत्रालय के एफसीआरए डिविजन के लोक सेवकों को पकड़ा जा सके।”