समाचार
सीबीआई ने कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम के करीबी एस भास्कररमन को गिरफ्तार किया

सीबीआई ने बुधवार को कथित घूस के मामले में लोकसभा सांसद कार्ति चिदंबरम के करीबी सहयोगी एस भास्कररमन को गिरफ्तार किया गया।

घूस की घटना 2011 की है, जब कार्ति के पिता पी चिदंबरम केंद्रीय गृह मंत्री थे। सीबीआई मंगलवार देर रात भास्कररमन को पूछताछ के लिए ले गई और बुधवार तड़के उसे गिरफ्तार कर लिया गया था।

जाँच एजेंसी ने आरोप लगाया कि भास्कररमन से पंजाब के तलवंडी साबो पावर लिमिटेड (टीएसपीएल) के तत्कालीन सहयोगी उपाध्यक्ष विकास मखरिया ने मनसा स्थित बिजली संयंत्र में काम कर रहे 263 चीनी श्रमिकों के लिए परियोजना वीजा पुनः जारी करने के लिए संपर्क किया था।

अधिकारियों ने कहा कि सीबीआई प्राथमिकी, जिसमें पीई की जाँच करने वाले जाँच अधिकारी के निष्कर्ष सम्मिलित हैं, ने आरोप लगाया कि मखरिया ने अपने करीबी सहयोगी भास्कररमन के माध्यम से कार्ति से संपर्क किया था।

प्राथमिकी में आरोप लगाया गया कि प्रोजेक्ट वीजा 2010 में बिजली एवं इस्पात क्षेत्र के लिए प्रस्तुत किया गया एक विशेष प्रकार का वीजा था। इसके लिए गृह मंत्री के रूप में पी चिदंबरम के कार्यकाल के दौरान विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए गए थे लेकिन परियोजना वीजा को पुनः जारी करने का कोई प्रावधान नहीं था।

आगे आरोप लगाया गया, “प्रचारित दिशा-निर्देशों के अनुसार, दुर्लभ और असाधारण मामलों में विचलन पर विचार किया जा सकता है और केवल गृह सचिव के अनुमोदन से ही अनुमति दी जा सकती है। हालाँकि, उपरोक्त परिस्थितियों को देखते हुए परियोजना वीजा के पुन: उपयोग के मामले में विचलन को तत्कालीन गृह मंत्री द्वारा अनुमोदित किए जाने की संभावना है।”

अधिकारियों ने कहा कि मखरिया ने कथित तौर पर 30 जुलाई 2011 को गृह मंत्रालय को एक पत्र भेजा था, जिसमें उनकी कंपनी को आवंटित परियोजना वीजा का पुन: उपयोग करने की स्वीकृति मांगी गई थी, जिसे एक महीने में अनुमति दे दी गई थी।