समाचार
“नगालैंड मामला गलत पहचान का, स्थिति की बारीकी से हो रही निगरानी”- अमित शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने आज लोकसभा में नगालैंड में हुई गोलीबारी को लेकर बयान दिया। रविवार को मोन जिले में सुरक्षाबलों द्वारा की गई गोलीबारी में 14 नागरिकों की मौत हो गई थी और 11 अन्य घायल हो गए थे।

गृह मंत्री ने कहा, “सेना को मोन में चरमपंथियों की आवाजाही के बारे में सूचना मिली थी। उसके आधार पर 21 कमांडो ने संदिग्ध क्षेत्र में हमला किया था। एक वाहन वहाँ पहुँचा था। उसे रुकने का संकेत दिया लेकिन उसने भागने का प्रयास किया। चरमपंथियों को ले जाने के संदेह पर उस पर गोलियाँ चलाई गईं।”

उन्होंने कहा, “वाहन में सवार आठ लोगों में से छह की मौत हो गई। बाद में यह गलत पहचान का मामला पाया गया। दोनों घायलों को सेना द्वारा निकटतम स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। इसकी खबर मिलते ही स्थानीय ग्रामीणों ने सेना इकाई को घेर लिया। उन्होंने दो वाहनों में आग लगा दी और हमला कर दिया।”

अमित शाह ने कहा, “इसके परिणामस्वरूप सुरक्षाबलों के एक जवान की मौत हो गई और कई अन्य घायल हो गए। सुरक्षाबलों को आत्मरक्षा में गोलीबारी करनी पड़ी, जिससे सात और नागरिकों की मौत हो गई व अन्य घायल हो गए। वर्तमान में स्थिति तनावपूर्ण है लेकिन नियंत्रण में है।”

गृह मंत्री ने सूचित किया कि जाँच हेतु विशेष जाँच दल गठित हुआ और एक महीने में जाँच पूरी करने का आदेश दिया गया है।

एएनआई के अनुसार गृह मंत्री ने लोकसभा में कहा, “प्रभावित क्षेत्र में अतिरिक्त बल तैनात हैं। सेना के तृतीय कोर मुख्यालय द्वारा बयान जारी किया गया, जिसमें निर्दोष नागरिकों की दुर्भाग्यपूर्ण मौतों की घटना पर गहरा खेद व्यक्त किया गया।”

अमित शाह ने कहा, “घटना की खबर मिलने के बाद तत्काल राज्यपाल और मुख्यमंत्री से संपर्क किया गया। गृह मंत्रालय ने नगालैंड के मुख्य सचिव और डीजीपी से भी संपर्क किया था।