व्यापार
स्वदेशी सामान विदेशों तक- चीनी सरकार ने पतंजलि में निवेश का दिया प्रस्ताव

बाबा रामदेव के सहयोग से स्थापित भारतीय एफएमसीजी निर्माता कंपनी पतंजलि वित्तीय वर्ष 2020 में चीन समेत वैश्विक स्तर पर अपना विस्तार करने जा रही है, फाइनेन्शियल एक्सप्रेस  ने बताया।

2006 में स्थापित तेज़ी से बिकने वाली उपभोक्ता वस्तुओं (एउएमसीजी) की यह कंपनी आयुर्वेद के आधार पर जड़ी-बूटियों की सहायता से अपने उत्पाद निर्मित करती है। मक्की चिवड़ों से कपड़ों तक, बिस्किट से अगरबत्ती तक विविध प्रकार के उत्पाद इसके द्वारा निर्मित किए जाते हैं।

“मार्च के बाद हम वैश्विक होने जा रहे हैं। चीनी सरकार ने 10,000 एकड़ भूमि प्रस्तावित की है और हमारी वस्तुओं के उत्पादन के लिए वे निवेश करने के लिए भी तैयार हैं।”, बाबा रामदेव ने रिपब्लिक  के साथ एक साक्षात्कार में कहा।

योग गुरु ने अपनी अग्रिम योजनाओं के विषय में कहा, “हम 2020 तक भारत की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनी बनना चाहते हैं। और 2025 तक हम विश्व के सबसे बड़े एफएमसीजी उत्पादक होंगे।”

हालाँकि केअर रेटिंग्स की रिपोर्ट के अनुसार वित्तीय वर्ष 2018 में पतंजलि की बिक्री में 10 प्रतिशत की कमी आई है।