समाचार
बीएसएनएल का भारत ब्रॉडबैंड निगम लिमिटेड के साथ इसी माह होने वाला है विलय

भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) का भारत ब्रॉडबैंड निगम लिमिटेड (बीबीएनएल) के साथ विलय इसी माह पूरा होने वाला है।

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट में बीएसएनएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक पीके पुरवार के हवाले से कहा गया, “बीबीएनएल का बीएसएनएल में विलय होने जा रहा है। इसका अर्थ है कि अखिल भारतीय स्तर पर भारतनेट के सभी कार्य बीएसएनएल के पास आएँगे। केंद्र सरकार ने यह नीतिगत निर्णय लिया है।”

पुरवार ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, “मंत्री ने मुझसे कहा कि इस कार्य को पूरा करने के लिए हमारे पास पूरी छूट है। बजट में बीएसएनएल के लिए करीब 45,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया, जो पहले 24,000 करोड़ रुपये था। पूर्व में केवल स्पेक्ट्रम के लिए प्रावधान किया गया था। अब स्पेक्ट्रम, कैपेक्स और अन्य हैं। इस वजह से सरकार आपको खुली छूट देना चाहती है। क्या आप बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं?”

उन्होंने बताया कि बीएसएनएल 4जी परीक्षण के अंतिम चरण में है और जल्द ही भूमि स्तर पर नेटवर्क परीक्षण और तैनाती के साथ शुरू हो सकता है।

पीके पुरवार ने दावा किया कि केंद्र सरकार सरकारी दूरसंचार कंपनी को रणनीतिक संपत्ति बनने का अवसर दे रही है और अब यह उन पर है कि वे स्वयं को साबित करें।

भारत संचार निगम लिमिटेड कथित तौर पर बीबीएनएल से अपने विलय के साथ 60,000 करोड़ रुपये के सार्वभौमिक सेवा दायित्व कोष (यूएसओएफ) तक पहुँच प्राप्त करेगा। यह माना जाता है कि दूरसंचार कंपनी को अपने वित्तीय संकट से बाहर निकलने में सहायता मिलेगी।