समाचार
सीमा सड़क संगठन की अटल सुरंग को मिला सर्वश्रेष्ठ इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजना का पुरस्कार

सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) द्वारा निर्मित अटल सुरंग को गुरुवार (28 अप्रैल) को भारतीय भवन कांग्रेस (आईबीसी) की ओर से सर्वश्रेष्ठ इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजना का पुरस्कार मिला।

यह 9.02 किमी लंबी है, जो विश्व स्तर पर सबसे लंबी राजमार्ग सुरंग है और पूरे वर्ष मनाली को लाहौल-स्पीति घाटी से जोड़ती है। इससे पहले, घाटी हर वर्ष लगभग छह माह भारी बर्फबारी के कारण बंद हो जाती थी।

प्रतिष्ठित पुरस्कारों के लिए 30 से अधिक अत्याधुनिक अवसंरचनाओं को नामांकित किया गया और आईबीसी के निर्णायक मंडल ने रणनीतिक सुरंग को 2021 में निर्मित पर्यावरण में उत्कृष्टता के लिए सर्वश्रेष्ठ परियोजना के रूप में चुना।

सीमा सड़क संगठन के महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल राजीव चौधरी ने आईबीसी के 25वें वार्षिक सम्मेलन के दौरान पुरस्कार प्राप्त किया।

इसे हिमालय के पीर पंजाल क्षेत्र में औसत समुद्र तल (एमएसएल) से 3,000 मीटर (10,000 फीट) की ऊँचाई पर अति-आधुनिक विनिर्देशों के साथ बनाई गई।

सुरंग मनाली और लेह के मध्य सड़क की दूरी 46 किलोमीटर और समय को लगभग 4 से 5 घंटे कम करती है। अटल सुरंग का दक्षिण पोर्टल (एसपी) मनाली से 25 किमी की दूरी पर 3,060 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है, जबकि सुरंग का उत्तरी पोर्टल (एनपी) 3071 मीटर की ऊँचाई पर लाहौल घाटी में सिस्सू के तेलिंग गाँव के पास स्थित है।

यह घोड़े की नाल के आकार की सिंगल ट्यूब डबल-लेन सुरंग है, जिसका सड़क मार्ग 8 मीटर है। अटल सुरंग को 3000 कारों और 1500 ट्रकों के यातायात घनत्व के लिए डिजाइन किया गया है, जिसकी अधिकतम गति 80 किमी/घंटा है।

महत्वपूर्ण लद्दाख क्षेत्र के लिए एक वैकल्पिक लिंक प्रदान करके भारतीय सशस्त्र बलों को रणनीतिक लाभ प्रदान करने के अतिरिक्त यह हिमाचल प्रदेश के लाहौल और स्पीति जिले के निवासियों के लिए भी लाभदायक साबित हो रहा है।