ब्लॉग
क्या अभिनेत्री दिव्या भारती थीं ‘लव जिहाद’ का शिकार? जानें मृत्यु से जुड़ी कुछ बातें

1990 के दशक की प्रसिद्ध अभिनेत्री दिव्या भारती की मौत एक दुर्घटना थी, आत्महत्या या हत्या इसपर पूर्ण विश्वास से कोई दावा नहीं किया जा सकता। 16 वर्ष की आयु में फिल्म जगत में आई भारती 19 वर्ष की आयु में ही चल बसीं और कहा जाता है कि इस बीच उन्होंने कम से कम 23 फिल्मों में काम किया।

बुलंदी पर चल रहा यह फिल्मी करियर आकस्मिक रूप से आज से 27 वर्षों पूर्व 5 अप्रैल 1993 को समाप्त हो गया जब रात 11.30 बजे दिव्या भारती की अपने वर्सोवा स्थित अपार्टमेंट की पाँचवीं मंज़िल से गिरने के कारण मौत हो गई थी।

उस समय इंटरनेट न होने के कारण इस विषय पर तत्कालीन जानकारी अधिक उपलब्ध नहीं है लेकिन मई 1993 में प्रकाशित स्टारडस्ट  में ट्रॉय रिबेरो की विस्तृत रिपोर्ट मामले को समझने में हमारी सहायता कर सकती है।

शीर्षक से आप चौंके अवश्य होंगे लेकिन इसका कारण है फिल्म निर्माता साजिद नडियाडवाला से उनके संबंध। जब उनकी मौत हुई तब उस अपार्टमेंट में वे पिछले एक साल से नाडियावाला के साथ रह रही थीं। हालाँकि उनकी मौत के समय नाडियाडवाला घर में नहीं थे।

दिव्या भारती की ही बिल्डिंग में रहने वाली उनकी एक सहेली के अनुसार दुर्घटना की रात को दोनों के बीच झगड़ा हुआ था। उस समय भारती का भाई कुणाल भी वहाँ था। हालाँकि भारती को शांत कराने के लिए लुल्ला दंपत्ति ने उन दोनों को घर से बाहर भेज दिया था।

इस प्रकार जब भारती गिरीं तो घर में भारती के मानसिक चिकित्सक डॉ श्याम लुल्ला और उनकी पत्नी व डिज़ाइनर नीता लुल्ला वहाँ उपस्थित थीं। पुलिस को दिए बयान में नीता का कहना है कि वे दावे से नहीं कह सकतीं कि नशे में होने के कारण भारती फिसलकर गिर गईं या जानबुझकर कूदीं।

वहीं फिल्मी जगत के कुछ ने नीता के इस बयान पर आशंका जताई कि वे अवश्य कुछ छुपा रही हैं। घटना के समय भारती की नौकरानी भी घर में थी लेकिन वह रसोईघर में थी और उसने भारती के शराब पीने की पुष्टि की लेकिन पुलिस ने उसका कोई बयान दर्ज नहीं किया।

भारती की एक सहेली का कहना था कि जब भारती रेलिंग पर बैठी थीं तब नीता ने उसे नीचे आने के लिए कहा था और इसी छीन-झपट में भारती गिर गईं और नीता ने यह बात छुपाई। विडंबना है कि अस्पताल रिकॉर्ड में इस घटना को आत्महत्या और डीएन नगर पुलिस थाने में मामले को दुर्घटना के रूप में दर्ज किया गया है।

नाडियाडवाला से संबंध

दिव्या भारती और नाडियावाला के निकट लोगों का मानना था कि वे विवाहित हैं और सुनी-सुनाई बातें कहती हैं कि शादी की बात को छुपाने व नाडियावाला के अंडरवर्ल्ड से संबंध के कारण दोनों में तनाव था। रोचक बात है कि 12 मार्च को हुए मुंबई बम धमाकों को तब तक एक माह भी नहीं हुआ था।

दोनों के परिवार भी उनके विवाह को लेकर एक बात करते नहीं दिखाई दिए। नाडियावाला के पिता का कहना था कि वे दोनों विवाहित नहीं हैं व अगले तीन माहों में विवाह करने वाले थे। मौत के बाद जब भारती को दफनाने की बात हो रही थी तब नाडियावाला की माँ ने कहा कि उन्हें उन दोनों के विवाह के बारे में कुछ पता नहीं है तो वे कैसे अनुमति दे दें।

इसपर भारती की माँ ने कहा कि उनकी बेटी जा चुकी है और फर्क नहीं पड़ता कि वह जलाई जाए या दफनाई जाए। यह सुनकर नाडियावाला की माँ भावुक हो गईं और सना (भारती का विवाह के बाद परिवर्तित नाम) के लिए रोने लगीं। कुछ अन्य रिपोर्टों में भी भारती के इस्लाम कबूलकर सना नाम करने की बात कही गई है।

हालाँकि बाद में भारती की माँ ने दफनाए जाने पर विरोध जताते हुए कहा कि भारती की नाडियावाला से शादी हुई है लेकिन उसने धर्मांतरण नहीं किया है और अगर ऐसा है तो वे दस्तावेज देखना चाहेंगी। इसपर जब नाडियावाला के मित्रों ने दस्तावेज माँगे तो उन्होंने विवाह की बात से ही इनकार कर दिया।

पोस्टमार्टम के बाद 7 अप्रैल को दिव्या भारती का हिंदू रीति-रिवाज़ों से सुहागन के रूप में अंतिम संस्कार हुआ और विडंबना है कि नाडियावाला ने उनके पति के रूप में क्रियाक्रम किया व भारती के भाई कुणाल ने चिता को अग्नि दी।

आमतौर पर ‘लव जिहाद’ की घटनाओं में अन्य धर्म की लड़की से विवाह कर इस्लाम कुबुलवाया जाता है और कुछ मामलों में उसे प्रताड़ना या हत्या का भी शिकार होना पड़ता है। भारती की मृत्यु से जुड़ी घटनाएँ इस घटनाक्रम से थोड़ी मेल खाती हैं लेकिन ऐसा कोई दावा नहीं किया जा रहा है।

भारती की मौत के बाद नाडियावाला क्षुब्ध अवश्य दिखाई दिए थे। 1998 में मामले की फाइल बंद होने के बाद 2000 में उन्होंने वर्दा खान से शादी कर ली व कई फिल्में बनाईं। इसी प्रकार मामले से जुड़ी नीता ने भी सफलता प्राप्त कर 300 से अधिक फिल्मों के लिए परिधान डिज़ाइन किए। पीछे रह गईं तो भारती और उनकी मौत का पूरा सच।