समाचार
भाजपा देश के बाहर भी करेगी पार्टी का विस्तार, 150 देशों के राजदूतों से जुड़ने की योजना

भाजपा ने हाल ही में हुए अपने 42वें स्थापना दिवस में निर्णय लिया कि वह देश के बाहर अपनी पहुँच बढ़ाएगी। आने वाले समय में पार्टी 150 से अधिक देशों के राजदूतों से जुड़ने की योजना बना रही है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, भाजपा ने इसकी योजना तैयार कर ली है। कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए पार्टी के विदेश मामलों का विभाग सक्रिय हो चुका है।

एएनआई ने भाजपा के विदेश मामलों के विभाग के प्रमुख डॉ विजय चौथाईवाले के हवाले से अपनी रिपोर्ट में इस संबंध में जानकारी दी। उन्होंने कहा, “पार्टी ने राजदूतों को आठ से नौ समूहों में विभाजित किया है। प्रत्येक समूह में 10 से 15 राजदूत हैं।”

उन्होंने बताया, “राजदूतों को अफ्रीकी, पूर्व एशियाई, राष्ट्रमंडल और उत्तरी अमेरिकी देशों सहित समूहों में विभाजित किया गया है। प्रयास है कि जनसंघ के युग से लेकर पार्टी के गठन तक भाजपा का क्या अर्थ है, इसे बताया जाए। हमें 6 अप्रैल को पार्टी के 42वें स्थापना दिवस पर अच्छी प्रतिक्रिया मिली है और इस आगे बढ़ाते हुए हम आने वाले समय में 150 से अधिक राजदूतों के साथ वार्ता करना चाहते हैं।”

रिपोर्ट में एक वरिष्ठ मंत्री का नाम ना छापने की शर्त पर बताया गया कि भाजपा एक अलग पार्टी और उसके उत्थान व इस महान राष्ट्र के निर्माण में इसके योगदान के बारे में सभी को बताने की आवश्यकता है।

स्थापना दिवस के दौरान पार्टी मुख्यालय में आए 15 राजदूतों से राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भेंट की थी। उन्होंने राजदूतों को बताया था कि भाजपा सरकार ने ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ के सिद्धांतों के साथ काम किया है।