समाचार
मुंबई दुष्कर्म मामले में भाजपा का उद्धव सरकार पर निशाना, दोषी को फांसी देने की मांग

भाजपा ने शनिवार (11 सितंबर) को मुंबई के साकीनाका में दुष्कर्म और हत्या के मामले में शामिल दोषी को मौत की सज़ा की मांग की। साथ ही महिलाओं की सुरक्षा के मुद्दे पर शिवसेना के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साधा।

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, साकीनाका में शुक्रवार तड़के सड़क किनारे खड़े एक टेंपो में 34 वर्षीय महिला के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म किया गया। गिरफ्तार किए गए 45 वर्षीय आरोपी ने पीड़िता के निजी अंगों पर लोहे की रॉड से हमला किया था। पीड़िता की शनिवार तड़के राजावाड़ी अस्पताल में मौत हो गई।

विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा, “मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होनी चाहिए। मुझे लगता है कि साकीनाका दुष्कर्म के दोषी को फांसी की सज़ा दी जानी चाहिए।”

राज्य विधान परिषद में विपक्ष के नेता प्रवीण दारेकर ने घटना के लिए उद्धव ठाकरे सरकार को ज़िम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा, “यह घटना न केवल लज्जाजनक है बल्कि इसने मुझे गुस्से से भर दिया है। यदि भाजपा कुछ कहती है तो उस पर आरोप लगते हैं कि वह महिलाओं के विरुद्ध अपराधों के मुद्दे का राजनीतिकरण कर रही है। महाराष्ट्र के कई हिस्सों में ऐसी घटनाएँ हुई हैं, जिसमें महिलाओं पर हमला किया गया।”

प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष चित्रा वाघ ने एससी-एसटी अत्याचार अधिनियम की तर्ज पर एक नया अधिनियम बनाने का आह्वान किया, ताकि दोषियों को आसानी से जमानत न मिले।

उन्होंने महाराष्ट्र की महिला एवं बाल विकास मंत्री यशोमती ठाकुर से पूछा कि उन्होंने एक वर्ष से अधिक समय से राज्य महिला आयोग के अध्यक्ष के पद पर किसी को क्यों नहीं नियुक्त किया। मुझे बताया गया कि राज्य महिला आयोग में अध्यक्ष नियुक्त करने की फाइल मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री ने आठ बार वापस भेजी है।