समाचार
हिजाब को लेकर कांग्रेसी इरफान अंसारी की विवादित टिप्पणी- “भाजपा चलाती न्यायालय”

राज्य में शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पर प्रतिबंध को बरकरार रखने के कर्नाटक उच्च न्यायालय के निर्णय पर झारखंड के कांग्रेसी विधायक इरफान अंसारी ने मंगलवार को एक बार पुनः भाजपा पर न्यायालयों को चलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह अच्छी परंपरा नहीं है। इसके बाद इस मामले पर विवाद खड़ा हो गया।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “मैं न्यायालय के निर्णय पर कुछ नहीं कहूंगा…। भाजपा न्यायालयों को चला रही है…। यह अच्छी परंपरा नहीं है।”

यह मानते हुए कि हिजाब इस्लामी आस्था में आवश्यक धार्मिक प्रथा का हिस्सा नहीं था, कर्नाटक उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार के शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पहनने पर प्रतिबंध को बरकरार रखा, जिसको लेकर मुस्लिम विद्यार्थियों ने विरोध किया था। इसके साथ हिजाब बनाम भगवा दुपट्टा ओढ़ने वाला तनावपूर्ण विवाद पनपने लगा था।

अंसारी ने गत वर्ष भी तालिबान के अफगानिस्तान के अधिग्रहण का कथित रूप से समर्थन करके विवाद खड़ा कर दिया था।

सितंबर में जामताड़ा के दो बार के विधायक अंसारी ने कहा था, “उनकी (तालिबान की) सराहना की जानी चाहिए क्योंकि उन्होंने अमेरिकियों को अफगानिस्तान से खदेड़ दिया। हम सभी जानते हैं कि अमेरिकी सेना अफगानिस्तान में किस तरह की ज्यादती करती थी।”

भाजपा ने तब अंसारी पर पलटवार करते हुए कहा था कि उनकी टिप्पणी कांग्रेस की तालिबानी मानसिकता को दर्शाती है।

उस समय भाजपा के मुख्य सचेतक बिरंची नारायण ने राज्य विधानसभा में कहा था, “वह यह भाषा इसलिए बोल रहे हैं क्योंकि कांग्रेस की स्वयं तालिबानी मानसिकता है। वह एक आतंकवादी संगठन का समर्थन कर रहा है, जो महिलाओं और अल्पसंख्यकों के विरुद्ध क्रूरता के लिए जाना जाता है। हमारी कई माताएँ, बहनें और अन्य लोग भय के कारण अफगानिस्तान से भाग रहे हैं। क्या अंसारी यहाँ भी ऐसी ही चीजें होते देखना चाहते हैं?”