समाचार
भवानीपुर सीट पर भाजपा ने प्रियंका टिबरेवाल को ममता बनर्जी के विरुद्ध खड़ा किया

पश्चिम बंगाल में होने वाले उपचुनाव को लेकर सबकी नज़रें भवानीपुर सीट पर लगी हैं, जहाँ से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खड़ी हैं। अब भाजपा ने इस सीट पर शुक्रवार (10 सितंबर) को प्रियंका टिबरेवाल को उम्मीदवार बनाकर खड़ा किया है, जो वकील हैं। उन्होंने ही बंगाल में विधानसभा चुनाव के बाद हुई हिंसा के विरुद्ध याचिका दायर की थी।

आज तक की रिपोर्ट के अनुसार, भवानीपुर में भाजपा ने ममता बनर्जी के लिए बड़ी रणनीति बनाई है। प्रियंका टिबरेवाल की घोषणा से पूर्व ही बैरकपुर के सांसद अर्जुन सिंह को भवानीपुर का पर्यवेक्षक बनाया गया। उनके साथ सांसद सौमित्र खान और ज्योतिर्मय सिंह को सह-पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया।

इसके अतिरिक्त, भवानीपुर का कार्य प्रभारी महामंत्री संजय सिंह को और उनके साथ दो सह-कार्य प्रभारी भी बनाए गए। हर वॉर्ड के लिए भाजपा ने एक-एक विधायक करके कुल आठ विधायकों को ज़िम्मेदारी दी है। अदाकार रुद्रनिल घोष को अभियान समिति का अध्यक्ष बनाया गया है।

बता दें कि 41 वर्षीय प्रियंका टिबरेवाल कलकत्ता उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय की वकील हैं। वे युवा मोर्चा के भाजपा यूथ विंग की उपाध्यक्ष के पद पर भी हैं। वे 2014 में भाजपा में सम्मिलित हुई थीं, तब बाबुल सुप्रियो की कानूनी सलाहकार हुआ करती थीं। उन्हें इसी वर्ष हुए विधानसभा चुनाव में एंटली सीट से उम्मीदवार बनाया गया था लेकिन वे तृणमूल कांग्रेस की नेता स्वर्णा कमल से 58,275 वोटों से हार गई थीं।

तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी अपने विपक्षी नेता शुभेंदु अधिकारी से नंदीग्राम में विधानसभा चुनाव के दौरान हार गई थीं, जिसकी वजह से वे अभी तक विधायी निकाय की निर्वाचित सदस्या नहीं हैं।