समाचार
भाजपा ने मंदिर पर बुलडोजर चलवाने पर अशोक गहलोत की औरंगजेब से तुलना की

राजस्थान में करौली हिंसा और 300 वर्ष पुराने मंदिर पर बुलडोज़र चलवाने के कारण विपक्ष ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की औरंगजेब से तुलना की। भाजपा ने मंदिर को तोड़े जाने की जाँच हेतु पाँच सदस्यीय समिति का गठन किया।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, सीकर सांसद स्वामी सुमेधानंद की अध्यक्षता में गठित भाजपा कमेटी तीन दिनों में राजगढ़ का दौर करके तथ्यात्मक रिपोर्ट तैयार कर राज्य भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया को सौंपेगी।

भाजपा नेता संजय नरूका ने कहा, “समिति में चंद्रकांता मेघवाल, राजेंद्र सिंह शेखावत, ब्रज किशोर उपाध्याय और भवानी मीणा सम्मिलित हैं।”

पार्टी नेता अमित मालवीय ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा, “करौली और जहांगीरपुरी पर आँसू बहाना और हिंदुओं की आस्था को ठेस पहुँचाना कांग्रेस की धर्मनिरपेक्षता है। 18 अप्रैल को बिना कोई नोटिस जारी किए प्रशासन ने राजस्थान के राजगढ़ कस्बे में 85 हिंदुओं के पक्के घरों और दुकानों पर बुलडोजर चलाए।”

भाजपा सांसद किरोड़ी मीणा ने कहा, “अशोक गहलोत सरकार ने औरंगजेब की तरह ही एक पुराने मंदिर को तोड़ा। कांग्रेस तुष्टीकरण की मानसिकता रखती है और शुरू से ही ऐसा करती रही है।”

उधर, अलवर के डीएम ने बताया, “मंदिर को गिराने का निर्णय आम सहमति बनने के बाद लिया गया। सभी अतिचारियों को व्यक्तिगत रूप से 6 अप्रैल को नोटिस दिया गया था और अतिक्रमण विरोधी अभियान से दो दिन पहले एक घोषणा की गई थी। कोई कानूनी ढाँचा नहीं तोड़ा गया और विध्वंस अभियान के दौरान कोई विरोध नहीं हुआ।”