समाचार
बक्सर-भागलपुर एक्सप्रेसवे संग बिहार पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का बंगाल तक विस्तार करेगा

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार द्वारा बनाए गए एक्सप्रेसवे मॉडल का बिहार पालन करने को तैयार है।

बिहार सरकार ने उत्तर प्रदेश के 341 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे को राजधानी पटना के माध्यम से बिहार की पूर्वी सीमा के पास स्थित भागलपुर तक विस्तारित करने की योजना बनाई है।

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे के विस्तार के रूप में 350 किलोमीटर बक्सर-भागलपुर एक्सप्रेसवे (वर्तमान मार्ग के लिए यह नक्शा देखें) का पूर्व-पश्चिम संरेखण है और यह उत्तर प्रदेश की सीमा से लगे पश्चिम बिहार के बक्सर को पूर्वी बिहार के भागलपुर से जोड़ेगा।

राज्य के सड़क निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने कहा कि योजना की व्यवहार्यता का अध्ययन करने के लिए केंद्र की एक टीम राज्य का दौरा करेगी।

टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय के सचिव नितिन और गिरिधर अरमानी के मध्य हुई बैठक में राज्य से गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्गों पर इस एक्सप्रेसवे और अन्य लंबित कार्यों के विस्तार पर सहमति बनी है।

341 किमी लंबा पूर्वांचल एक्सप्रेसवे लखनऊ-सुल्तानपुर रोड (एनएच-731) पर स्थित ग्राम चौदसराय, जिला लखनऊ से शुरू होता है और यूपी-बिहार सीमा से 18 किमी पूर्व में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 पर स्थित गाँव हैदरिया पर समाप्त होता है।

एक्सप्रेसवे छह लेन चौड़ा है और भविष्य में इसे आठ लेन तक बढ़ाया जा सकता है। 22,500 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से निर्मित, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे ने उप्र के पूर्वी हिस्से विशेष रूप से लखनऊ, बाराबंकी, अमेठी, अयोध्या, सुल्तानपुर, अंबेडकर नगर, आजमगढ़, मऊ और गाजीपुर जिलों को लाभ पहुँचाया है।

यदि झारखंड और पश्चिम बंगाल की सीमाओं के पास स्थित भागलपुर तक विस्तारित किया जाता है तो ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे पटना में रहने वाले लोगों सहित दक्षिण बिहार के लोगों को उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के लिए कम यात्रा समय के साथ बेहतर संयोजकता प्रदान करेगा।