समाचार
वनवेब ने 2022 में उपग्रह लॉन्च हेतु इसरो के न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड संग समझौता किया

भारती समूह समर्थित वनवेब ने सोमवार को कहा कि उसने 2022 से भारत में अपना उपग्रह लॉन्च करने के लिए इसरो की वाणिज्यिक इकाई न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड (एनएसआईएल) के साथ एक समझौता किया है।

बयान में कहा गया कि एनएसआईएल के साथ आशय पत्र (एलओआई) के माध्यम से वनवेब के उपग्रहों को भारत में 2022 से लॉन्च करने के लिए संभावित मंच के रूप में भारतीय निर्मित पीएसएलवी (पोलर सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) और भारी जीएसएलवी-मार्क 3 (जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल) का उपयोग करने की व्यवस्था की गई है।

कहा गया, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में भारतीय अंतरिक्ष संघ (आईएसपीए) के शुभारंभ पर गैर-बाध्यकारी आशय पत्र का अनावरण किया गया।”

वनवेब आईएसपीए के संस्थापक सदस्यों में से एक है, जो भारत में अंतरिक्ष और उपग्रह कंपनियों की सामूहिक आवाज़ बनने का प्रयास करता है और भारत के अंतरिक्ष पारिस्थितिकी तंत्र के विकास के लिए हितधारकों के साथ काम करेगा।

कंपनी 648 एलईओ उपग्रहों के अपने प्रारंभिक समूह का निर्माण कर रही है और पहले ही एक वर्ष से भी कम समय में 322 उपग्रहों को कक्षा में स्थापित कर चुकी है। यह इस वर्ष अलास्का, कनाडा और यूके सहित आर्कटिक क्षेत्र में और भारत में 2022 की दूसरी छमाही में सेवाएँ शुरू करने की योजना बना रही है।

वनवेब के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल ने कहा, “इसरो ने जबरदस्त लॉन्च क्षमताओं का निर्माण किया है और भारत सफल प्रक्षेपणों का इतिहास रखने वाले देशों के चुनिंदा समूह का हिस्सा है। वनवेब पृथ्वी, महासागरों और आकाश में ब्रॉडबैंड संयोजकता के प्रसार के अपने दृष्टिकोण को पूरा करने के लिए इसरो के सफल मंचों का उपयोग करने को लेकर उत्साहित है।”

बयान में कहा गया कि वनवेब 14 अक्टूबर को अपना 11वाँ प्रक्षेपण करेगा, जिसमें 36 और उपग्रह होंगे।