समाचार
भारती एयरटेल 26 नवंबर से अपने प्रीपेड टैरिफ दरों में 20-25 प्रतिशत तक वृद्धि करेगा

दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनी भारती एयरटेल 26 नवंबर से प्रीपेड ग्राहकों के लिए अपनी टैरिफ दरों में 20 से 25 प्रतिशत तक की वृद्धि करेगी, जो टैरिफ दरें ऊँची करने का संकेत देती हैं। दरअसल, दूरसंचार कंपनियाँ 5जी में नए निवेश से पहले लाभप्रदता बढ़ाने के तरीकों पर विचार कर रही हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने बताया कि भारती एयरटेल ने हमेशा यह सुनिश्चित किया है कि प्रति उपयोगकर्ता मोबाइल एवरेज रेवेन्यू (एआरपीयू) 200 रुपये होना चाहिए। अब यह 300 पर होना चाहिए, ताकि पूंजी पर उचित रिटर्न प्रदान किया जा सके, जो वित्तीय रूप से स्वस्थ व्यापार मॉडल की अनुमति देता है।

कंपनी ने कहा, “हम यह भी मानते हैं कि एआरपीयू का यह स्तर नेटवर्क और स्पेक्ट्रम में आवश्यक पर्याप्त निवेश को सक्षम करेगा। इससे भी महत्वपूर्ण बात है कि इससे भारती एयरटेल को भारत में 5जी सेवा को शुरू करने में सहायता मिलेगी।”

एयरटेल के बाद दूसरी कंपनियाँ भी टैरिफ दरों में परिवर्तन कर सकती हैं। विशेषकर भारी कर्ज से जूझ रही वोडाफोन आइडिया अपनी प्रीपेड दरों को महंगा कर सकती है।

हालाँकि, जैसे-जैसे कंपनियाँ टैरिफ बढ़ाती हैं, वैसे-वैसे सेवाओं की गुणवत्ता पर ध्यान फिर से केंद्रित हो जाएगा, जो आम तौर पर विगत कुछ वर्षों में भारतीय दूरसंचार क्षेत्र के विकास की गति से पिछड़ गई हैं।

एयरटेल ने अन्य प्रीपेड वॉयस और डाटा प्लान में परिवर्तन करते हुए न्यूनतम वॉयस टैरिफ प्लान को 79 रुपये से बढ़ाकर 99 रुपये कर दिया है।