समाचार
राष्ट्रपति कोविंद द्वारा बांग्लादेश में रमना काली मंदिर का उद्घाटन, पाक ने किया था ध्वस्त

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार (17 दिसंबर) को बांग्लादेश की राजधानी ढाका में पुनर्निर्मित ऐतिहासिक रमना काली मंदिर का उद्घाटन किया।

वे बांग्लादेश की स्वतंत्रता के स्वर्ण जयंती समारोह में सम्मिलित होने तीन दिवसीय यात्रा पर बुधवार को ढाका पहुँचे। 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तानी सेना ने मंदिर को नष्ट कर दिया था।

राष्ट्रपति सचिवालय की विज्ञप्ति के अनुसार, उद्घाटन के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि बांग्लादेश और भारत की सरकारों और लोगों ने मंदिर को बहाल करने में सहायता की है, जिसे पाकिस्तानी सेना ने मुक्ति संग्राम के दौरान ध्वस्त कर दिया था।

उन्होंने कहा कि कब्जा करने वालों ने बड़ी संख्या में लोगों को मार दिया था। यह मंदिर भारत और बांग्लादेश के लोगों के मध्य आध्यात्मिक और सांस्कृतिक बंधन का प्रतीक है।

ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पुनर्निर्मित मंदिर में पूजा भी की। उन्होंने आमंत्रित अतिथियों, मंदिर समिति के सदस्यों और भक्तों से मिले और उनका अभिवादन स्वीकार किया।

रिपोर्ट में मंदिर की कार्यकारिणी समिति के अध्यक्ष उत्पल साहा के हवाले से कहा गया कि 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सशस्त्र बलों ने श्रीश्री रमना काली मंदिर और श्रीमा आनंदमयी आश्रम को पूरी तरह से नष्ट कर दिया था।

उन्होंने कहा कि सदियों पुराने मंदिर को नष्ट कर दिया गया और मंदिर परिसर में कई घरों पर हमला किया गया और पाकिस्तानी सेना के ऑपरेशन सर्चलाइट के दौरान लोगों को बेरहमी से मार दिया गया था।