समाचार
बांग्लादेश में बदमाशों ने गणेश की मूर्ति के चरणों में रखी कुरान, दुर्गा पंडालों पर हुए हमले

बांग्लादेश में गत दो दिनों में कई दुर्गा पूजा पंडालों और हिंदू मंदिरों पर हमले हुए, जिसके बाद 22 जिलों में अर्धसैनिक बल तैनात कर दिए गए। कोमिला में दुर्गा पूजा पंडाल में मूर्ति के चरणों में कुरान की प्रति रखने के कुछ घंटों बाद बुधवार (13 अक्टूबर) को हमले शुरू हुए। मुस्लिम भीड़ ने पंडाल पर हमला किया, जिससे देश के कई हिस्सों में पंडालों और मंदिरों पर हमलों की शृंखला शुरू हो गई।

आईएएनएस के अनुसार, स्थानीय अधिकारियों ने बताया कि कट्टरपंथी संगठन जमात-ए-इस्लाम के सदस्यों का इसमें हाथ है। संगठन के बदमाशों ने कुरान की प्रति को मंगलवार रात ‘नानुयार दिघीर पर’ मंदिर में भगवान् गणेश की मूर्ति के चरणों में रख दी। वे इसका चित्र लेकर भाग गए, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

कोमिला महानगर पूजा उदजापन समिति के महासचिव ने कहा कि जब गार्ड सो रहा था, तब पंडाल में किसी ने कुरान की प्रति रख दी थी। गुरुवार को पुलिस ने फयाज़ उद्दीन नाम के एक स्थानीय व्यक्ति को हिरासत में लिया, जो सोशल मीडिया पर चित्र अपलोड करने वाला पहला व्यक्ति है।

आज ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट प्रकाशित होने तक 43 लोगों को हिरासत में लिया गया। कोमिला में शुरू हुए हिंदू पंडालों और मंदिरों पर हमले जल्द ही चांदपुर, चटगाँव, चट्टोग्राम, चपैनवाबगंज, कुरीग्राम और कॉक्स बाजार तक फैल गए। चांदपुर में बुधवार रात नमाज के बाद जुलूस निकला। इसमें भीड़ ने लक्ष्मी नारायण अखाड़ा पूजा पंडाल पर हमला कर दिया।

डेली स्टार ने हमलों से संबंधित तीन हत्याओं की सूचना दी। पुलिस के मंदिरों पर हमला करने और कथित रूप से गोलियाँ चलाने से रोकने के बाद झड़पें शुरू हो गईं। मारे गए लोगों के नाम अलामीन, यासीन हुसैन हिरदोय और बबलू हैं। कोमिला में झड़पों में 50 से अधिक लोग घायल हुए। कुरीग्राम में एक मंदिर में आग लगा दी गई।