समाचार
पाकिस्तान में मोहम्मद अली जिन्ना की मूर्ति बलूच विद्रोहियों ने विस्फोट कर नष्ट की

पाकिस्तान के ग्वादर में देश की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले मोहम्मद अली जिन्ना की मूर्ति को विस्फोटक के जरिए नष्ट कर दिया गया। इसकी ज़िम्मेदारी देश के प्रतिबंधित बलूच लिब्रेशन फ्रंट ने ली है।

हिंदुस्तान लाइव ने डॉन के आधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया कि इस वर्ष की शुरुआत में ही मरीन ड्राइव पर यह मूर्ति लगाई गई थी। इसको सुरक्षित क्षेत्र माना जाता था लेकिन हमलावरों ने प्रतिमा के नीचे विस्फोटक उपकरण लगाकर इसे नष्ट कर दिया।

बलूच रिपब्लिकन आर्मी के प्रवक्ता बबगर बलूच ने ट्विटर पर हमले की ज़िम्मेदारी ली है। ग्वादर के उपायुक्त मेजर (सेवानिवृत्त) अब्दुल कबीर खान ने बीबीसी उर्दू के हवाले से बताया कि मामले की उच्चतम स्तर पर पर जाँच की जा रही है।

उन्होंने कहा कि विद्रोही पर्यटक के रूप में आए थे। अब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है लेकिन एक-दो दिन के भीतर जाँच पूरी कर ली जाएगी। दोषियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा।

बता दें कि ये बलूच विद्रोही चीन के समर्थन वाली सीपीईसी परियोजना का विरोध कर रहे हैं। इसके विरोध में बलूच विद्रोही जगह-जगह पाकिस्तान के सुरक्षाबलों, प्रतिष्ठानों और चीनी नागरिकों पर हमले कर रहे हैं।