समाचार
बीकानेर-गुवाहाटी एक्सप्रेस दुर्घटना पर प्रधानमंत्री ने जताया दुःख, 7 की मौत व 45 घायल

पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी जिले में डोमोहानी के पास गुरुवार को बीकानेर-गुवाहाटी एक्सप्रेस ट्रेन के 12 डिब्बे पटरी से उतर गए और कुछ के पलट जाने से कम से कम सात लोगों की मौत हो गई और 45 से अधिक घायल हो गए।

गुवाहाटी में एनएफआर के प्रवक्ता ने बताया कि दुर्घटना पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के अलीपुरद्वार मंडल के अंतर्गत शाम करीब 5 बजे घटित हुई।

जलपाईगुड़ी की डीएम मौमिता गोदारा बसु ने कहा, “अब तक सात यात्रियों की मौत हो चुकी है। हमने दुर्घटनास्थल से चार शव बरामद किए, जबकि तीन लोगों की अस्पताल में मौत हो गई। दुर्घटना में कम से कम 45 यात्री घायल हुए । कुछ की हालत गंभीर है इसलिए मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। हम क्षतिग्रस्त डिब्बों को हटाने के लिए क्रेन का उपयोग कर रहे हैं।”

घायलों का मयनागुड़ी और जलपाईगुड़ी के अस्पतालों में उपचार चल रहा है। रेलवे के एक अधिकारी ने नई दिल्ली में कहा कि आयुक्त, रेलवे सुरक्षा दुर्घटना के कारणों की जाँच करेंगे। एनएफआर ने गुवाहाटी में एक बयान में कहा कि बचाव अभियान पूरा कर लिया गया है। ट्रेन के पटरी से उतरने के समय ट्रेन में 1,053 यात्री सवार थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, “रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बात की और पश्चिम बंगाल में ट्रेन दुर्घटना के मद्देनजर स्थिति का जायजा लिया। मेरी संवेदनाएँ शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। कामना है कि दुर्घटना में घायल शीघ्र स्वस्थ हों।”

रेलवे ने बीकानेर-गुवाहाटी एक्सप्रेस ट्रेन दुर्घटना में मारे गए लोगों के परिजनों को पाँच लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को एक लाख रुपये और साधारण रूप से घायल यात्रियों को 25,000 रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने भी दुर्घटना पर दुःख व्यक्त किया।