समाचार
उत्तर प्रदेश, पंजाब सहित पाँच राज्यों में विधानसभा चुनाव 10 फरवरी से 7 मार्च तक

चुनाव आयोग ने शनिवार (8 जनवरी) को घोषणा की कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, मणिपुर और गोवा में विधानसभा चुनाव 10 फरवरी से 7 मार्च के मध्य सात चरणों में होंगे।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने नई दिल्ली में संवाददाताओं से कहा कि कोविड​​​​-19 महामारी की तीसरी लहर के साथ आयोग ने पाँच राज्यों में 690 विधानसभा सीटों पर कोविड सुरक्षित चुनाव सुनिश्चित करवाने हेतु नए प्रोटोकॉल निर्धारित किए हैं। इस दौरान चुनाव आयुक्त राजीव कुमार और अनूप चंद्र पांडे भी उपस्थित थे।

उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों पर सात चरणों में 10 फरवरी से 7 मार्च तक मतदान होगा। 10 फरवरी को पहले, 14 फरवरी को दूसरे, 20 फरवरी को तीसरे, 23 फरवरी को चौथे, 27 फरवरी को पाँचवें, 3 मार्च को छठवें और 10 मार्च को सातवें चरण का मतदान होगा।

मणिपुर की 60 सीटों पर 27 फरवरी और 3 मार्च को दो चरणों में मतदान होगा, जबकि गोवा (40 सीटों), पंजाब (117 सीटों) और उत्तराखंड (70 सीटों) में 14 फरवरी को मतदान होगा।

चुनाव की घोषणा के साथ ही पाँच राज्यों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। चुनाव आयोग ने कोविड को देखते हुए विधानसभा चुनावों के दौरान 15 जनवरी तक जनसभाओं, साइकिल एवं बाइक रैली और पदयात्राओं पर रोक लगा दी। 15 जनवरी के बाद स्थिति का जायजा लेने के बाद आयोग आगे का निर्णय लेगा।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा, “निर्णय लिया गया कि 15 जनवरी तक लोगों की शारीरिक रूप से उपस्थिति वाली कोई जनसभा, पदयात्रा, साइकिल रैली, बाइक रैली रोडशो की अनुमति नहीं होगी। रात 8 बजे से सुबह 8 बजे के बीच कोई सभा नहीं होगी। सार्वजनिक मार्गों पर नुक्कड़ सभा नहीं होगी। परिणामों के बाद विजय जुलूस नहीं निकाला जाएगा।”