समाचार
लखीमपुर खीरी की सभी आठ सीटों पर भाजपा विजयी, निघासन में मिली बड़ी जीत

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) निघासन में विजयी हुई है। यह वही जगह है, जहाँ अक्टूबर 2021 में लखीमपुर खीरी हिंसा हुई थी।

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा उम्मीदवार शशांक वर्मा ने समाजवादी पार्टी (सपा) के उम्मीदवार आरएस कुशवाहा को 41,000 मतों से हराया है।

भगवा पार्टी ने लखीमपुर खीरी जिले की सभी आठ सीटों पर जीत दर्ज की है। इनमें पलिया, गोला, श्रीनगर, धौरहरा, लखीमपुर, कास्ता और मोहम्मदी हैं।

पलिया से भाजपा प्रत्याशी हरविंदर सिंह साहनी रोमी को जीत मिली। कस्ता से प्रत्याशी सौरव सिंह सोनू जीते हैं। धौरहरा सीट से विनोद शंकर अवस्थी, श्रीनगर विधानसभा सीट से प्रत्याशी मंजू त्यागी जीते हैं।

इसके अलावा, गोला विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी अरविंद गिरि ने चुनाव जीता तो निघासन विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी शशांक वर्मा जीते हैं। लखीमपुर सदर से भाजपा प्रत्याशी योगेश वर्मा व मोहम्मदी सीट से लोकेंद्र प्रतास सिंह ने जीत प्राप्त की है।

बता दें कि लखीमपुर खीरी में चौथे चरण में मतदान हुआ था। उस समय 62.45 प्रतिशत वोट डाले गए थे।

लखीमपुर खीरी में गत वर्ष हिंसा हुई थी। किसान आंदोलन के दौरान निघासन विधानसभा के अंतर्गत तिकुनिया में कई किसानों के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी गई थी, जिसमें भाजपा कार्यकर्ताओं व किसानों की मौत हो गई थी।

इस मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा मुख्य आरोप बनाए गए थे और कई माह की उन्हें सजा काटनी पड़ी थी। जहाँ पर गाड़ी ने किसानों को कुचला था वह जगह तिकुनिया थी, जो निघासन विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आती है। अब वहाँ भी भाजपा ने ही जीत का परचम लहराया है।