समाचार
डिब्रूगढ़ में बोगीबील ब्रिज के निकट बनेगा कार्गो टर्मिनल, पर्यटक बांध और रिवर फ्रंट

केंद्रीय बंदरगाह, नौवहन और जलमार्ग मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने डिब्रूगढ़ में बोगीबील ब्रिज के पास प्रस्तावित कार्गो टर्मिनल, पर्यटक बांध और रिवर फ्रंट विकास परियोजनाओं के लिए कार्यस्थल का दौरा किया। साथ ही कार्यों के तेज़ी से कार्यान्वयन हेतु  हितधारकों के साथ बैठक की।

बंदरगाह, नौवहन और जलमार्ग मंत्रालय ने कहा कि औपनिवेशिक काल में एक प्रमुख नदी बंदरगाह डिब्रूगढ़ भारत के आर्थिक विकास में एक महत्वपूर्ण योगदानकर्ता था। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि डिब्रूगढ़ को एक बार पुनः देश का प्रमुख नदी बंदरगाह बनाने के लिए आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय जलमार्ग (एनडब्ल्यू) 2 (ब्रह्मपुत्र पर) और एलडबल्यू 16 (बराक पर) विकसित करने के अवसर बांग्लादेश के साथ हमारी संयोजकता का लाभ उठा रहे हैं। साथ ही हमें दुनिया के बाज़ारों तक पहुँचने का मार्ग दे रहे हैं। इस वजह से हम असम के विभिन्न हिस्सों में नदी बंदरगाहों का विकास कर रहे हैं। डिब्रूगढ़ में कार्गो और यात्रियों के लिए एक बंदरगाह बनाया जाएगा।”

उन्होंने कहा कि बंदरगाह, नौवहन एवं जलमार्ग मंत्रालय, असम सरकार का अंतर्देशीय जल परिवहन विभाग और उत्तर पूर्व सीमांत रेलवे मिलकर बोगीबील ब्रिज के पास के क्षेत्र को विकसित करने के लिए कार्य कर रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा, “एक्ट ईस्ट पॉलिसी ने नॉर्थ ईस्ट को एक संयोजकता केंद्र में परिवर्तित कर दिया है। पीएम गतिशक्ति- नेशनल मास्टर प्लान के नेतृत्व में ब्रह्मपुत्र नदी पर कार्गो की आवाजाही को तेज़ करने के लिए एक एकीकृत योजना की परिकल्पना की जा रही है। यह रोजगार के अवसर बनाएगा और स्थानीय उत्पादों तक वैश्विक बाज़ार पहुँच प्रदान करेगा।”