समाचार
ओमिक्रॉन के बाद फ्रांस में कोविड-19 के नए प्रकार के रूप में आईएचयू की पहचान हुई

वैज्ञानिकों ने दक्षिण फ्रांस में कोविड-19 के नए स्वरूप की पहचान की। आईएचयू के रूप में नामित बी.1.640.2 प्रकार को आईएचयू मेडिटेरेनी इंफेक्शन के शोधकर्ताओं ने कम से कम 12 मामलों में पाया। इसे अफ्रीकी देश कैमरून की यात्रा से जोड़कर देखा जा रहा।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, शोधकर्ताओं का यह भी कहना है कि जहाँ तक संक्रमण और टीकों से सुरक्षा का संबंध है तो इस बारे में अनुमान लगाना जल्दबाजी होगी।

29 दिसंबर को मेडआर्काइव पर पोस्ट किए गए अध्ययन से पता चला कि आईएचयू में 46 म्यूटेशन और 37 विलोपन हैं। इसके परिणामस्वरूप 30 अमीनो एसिड प्रतिस्थापन और 12 विलोपन होते हैं। अमीनो एसिड ऐसे अणु हैं, जो प्रोटीन बनाने के लिए गठबंधन करते हैं और दोनों जीवन के निर्माण खंड हैं।

वर्तमान में उपयोग किए जाने वाले अधिकांश टीके सार्स-कोव-2 के स्पाइक प्रोटीन पर लक्षित होते हैं। ये वायरस कोशिकाओं में प्रवेश करने और संक्रमण के लिए इन्ही प्रोटीन को निशाना बनाते हैं। एन501वाई और ई484के म्यूटेशन पहले बीटा, गामा, थीटा और ओमिक्रॉन स्वरूप में भी पाए गए थे।

अध्ययन के लेखकों ने कहा कि यहाँ प्राप्त जीनोम के उत्परिवर्तन सेट और फाइलोजेनेटिक स्थिति हमारी पिछली परिभाषा के आधार पर आईएचयू नामक एक नए प्रकार की ओर इंगित करती है।

एपिडेमियोलॉजिस्ट एरिक फीगल-डिंग ने ट्वीट किया, “नए प्रकार सामने आते हैं पर इसका अर्थ नहीं कि वे अधिक खतरनाक होंगे। किसी वैरिएंट को जो चीज अधिक खतरनाक बनाती है, वह है मूल वायरस की तुलना में वह कितना गुना उत्परिवर्तन होती है।”