अर्थव्यवस्था
ऐप्पल, सैमसंग और शाओमी दीपावली की माँग पूरी करने के लिए संघर्षरत

हाल में आया एक अध्ययन बताता है कि बहुतांश भारतीय उपभोक्ता त्यौहारी मौसम में बड़ी खरीद के लिए बचत कर रहे थे, विशेषकर स्मार्टफोन और इलेक्ट्रॉनिक्स तथा फैशन उत्पादों के लिए।

हालाँकि, अब एक रिपोर्ट आई है जो बताती है कि दीपावली खरीददारी मौसम से पहले ही इस प्रकार के उपभोक्ता गैजेट की माँग आपूर्ति से अधिक हो गई है और कई लोकप्रिय उत्पाद बाज़ार में मिल नहीं रहे हैं।

कई सर्वाधिक बिकने वाले मॉडल, जैसे ऐप्पल का आईफोन 11, 12 और 13, सैमसंग का गैलेक्सी फोल्ड व फ्लिप मॉडल, टेलीविज़न सेट और कई लोकप्रिय ब्रांडों के आयातित उपकरण या तो मिल नहीं रहे हैं या भंडार में कम हैं, खुदरा व्यापारियों और उद्योग से जुड़े व्यावसायिकों का कहना है।

उद्योग कार्यकारियों के अनुसार संभावित माँग से 15 से 30 प्रतिशत तक कम है आपूर्ति। नवरात्रि के समय भी भारी बिक्री हुई थी, फ्लिपकार्ट और अमेज़ॉन जैसे मंच इसमें अव्वल रहे थे, साथ ही रिलायंस डिजिटल, क्रोमा, विजय सेल्स और ग्रेट ईस्टर्न रिटेल जैसी दुकानों से भी भारी बिक्री से आपूर्ति की कमी हो गई है।

अधिक माँग अपेक्षित थी

बेंगलुरु आधारित ज़ेस्टमनी से देशभर में करवाए गए एक सर्वेक्षण की पहले आई रिपोर्ट बताती थी कि 78 प्रतिशत लोगों ने दावा किया कि वे आने वाले सप्ताहों या महीनों में खरीददारी के लिए बचत कर रहे हैं।

पूरे भारत में किए गए इस सर्वेक्षण में कुल 3,800 लोगों ने भाग लिया था जिनमें से अधिकांश 1990 के बाद जन्मे लोग हैं। सर्वेक्षण में पाया गया कि 62 प्रतिशत लोग पिछले वर्ष की तुलना में त्यौहारों पर अधिक खर्च करना चाह रहे हैं।

यह भी पाया गया कि लोगों की खरीददारी सूची में स्मार्टफोन और उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स शीर्ष दो उत्पाद थे। उस समय ज़ेस्टमनी की सीईओ और सह-संस्थापक लिज़ी शैपमैन ने कहा था, “इस त्यौहारी मौसम में कुल मिलाकर हम पिछले वर्ष की तुलना में तीन गुना वृद्धि की अपेक्षा कर रहे हैं।”

हाल में आई एक रिपोर्ट बताती है कि भारत की दो प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियों- अमेज़ॉन और फ्लिपकार्ट- ने भी अधिक माँग की अपेक्षा की थी और अपने विक्रेताओं को काफी पहले ही भंडार उपयुक्त रखने के लिए कहा था जिसके कारण इन मंचों पर स्थिति बेहतर है।

आईफोन की उच्च माँग को देखते हुए कई शीर्ष खुदरा व्यापारियों व कार्यकारियों, तथा स्वयं ऐप्पल ने कहा है कि कंपनी के लिए यह अब तक का सबसे बड़ा आपूर्ति संकट है। बाज़ार विश्लेषकों का कहना है कि संभवतः पिछली तिमाही में ऐप्पल ने 20 लाख से अधिक आईफोन की पूर्ति भारत में की थी।

हालाँकि, इसके बावजूद भी ऐप्पल के ऑनलाइन स्टोर से दो वर्ष पुराने आईफोन 11 जैसे मॉडल के लिए भी तीन से चार सप्ताह के बाद डिलीवरी होती है। आईफोन 12 के अधिकांश संस्करण अब फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध नहीं हैं, वहीं अन्य मॉडलों की सप्ताह भर बाद डिलीवरी होती है।

ऐप्पल के ऑनलाइन स्टोर पर भी हाल में लॉन्च किए गए आईफोन 13 का प्रो मॉडल उपलब्ध नहीं है और एक माह के बाद ही उसकी डिलीवरी हो सकेगी। ऐसी ही परिस्थिति का सामना सैमसंग इंडिया को भी त्यौहारी मौसम में करना पड़ रहा है।

इस परिस्थिति के जानकार लोगों ने बताया कि सैमसंग इंडिया ने मुख्यालय को एसओएस भेजा है और हाल में घोषित सुपर-प्रीमियम सेलफोन, जिनका वर्तमान में दक्षिण कोरिया से आयात होता है, के अधिक भंडार का निवेदन किया है।

विश्व में सबसे बड़ी स्मार्टफोन विनिर्माता चीनी कंपनी शाओमी ने भी कुछ बड़ी खुदरा शृंखलाओं को कहा था कि अगले सात-दस दिनों के लिए कुछ आपूर्ति बाधाएँ हैं। उन्होंने यह भी बताया कि त्यौहारी मौसम में उपभोक्ताओं की ओर से उनके पास भारी माँग आ रही है।

शाओमी के एक प्रवक्ता ने कहा, “माँग लगातार बढ़ रही है और माँग एवं आपूर्ति के बीच के अंतर को देखते हुए हम कई विक्रेताओं के साथ मिलकर काम कर रहे हैं तथा जितनी अधिक आपूर्ति हो सके, उतना करने का प्रयास कर रहे हैं।”

साथ बी प्रवक्ता ने यह भी बताया कि इस अंतर को भरने के लिए वे स्थानीय विनिर्माण क्षमताओं को बढ़ाने पर भी काम कर रहे हैं। सेमीकन्डक्टर के अभाव के कारण उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स और स्मार्टफोन उद्योग पिछले कुछ महीनों से आपूर्ति परेशानियों का सामना कर रहे हैं।

एक ओर जहाँ वैश्विक माँग बढ़ी है, वहीं दूसरी ओर शिपिंग डब्बों की आपूर्ति कम है क्योंकि पश्चिमी देशों में विक्रेता एवं ऑनलाइन स्टोर क्रिसमस बिक्री के लिए तैयारी कर रहे हैं। बीएसएच हाउसहोल्ड अप्लाएन्सेज़ इंडिया का कहना है कि आपूर्ति बाधा के कारण कंपनी संभावना से 15 प्रतिशत कम बिक्री कर पा रही है।

बीएसएच के प्रबंध निदेशक नीरज बहल के अलावा एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स इंडिया के उपाध्यक्ष दीपक बंसल ने कहा, “शिपमेंट देरी से आ रहा है एवं यदि माँग अगले सात-दस दिनों में और बढ़ जाती है तो अभाव बढ़ेगा।”