समाचार
हिंदू महासभा की घोषणा- मथुरा में मंदिर से सटी मस्जिद में स्थापित करेंगे श्रीकृष्ण की मूर्ति

अखिल भारत हिंदू महासभा ने घोषणा की कि मथुरा के मंदिर में भगवान् कृष्ण की मूर्ति उनके जन्म के असली स्थान पर ही लगाएगी। महासभा का कहना है कि भगवान् कृष्ण का असली जन्मस्थान मंदिर से सटी मस्जिद ही है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राज्यश्री चौधरी ने कहा कि मूर्ति महा जलाभिषेक के बाद स्थापित की जाएगी। 6 दिसंबर को शुद्धता के बाद मस्जिद वाले स्थान पर ही मूर्ति स्थापित की जाएगी।

हिंदू महासभा ने मूर्ति स्थापित करने की, जो तिथि निर्धारित की है, उसी दिन 1992 में अयोध्या में बाबरी मस्जिद को ध्वस्त किया गया था। महासभा ने शाही ईदगाह के भीतर अनुष्ठान करने की बात कही है।

बाबरी विध्वंस और मथुरा में मूर्ति स्थापित करने की तिथि को विचार-विमर्श कर रखने की बात से राज्यश्री चौधरी ने मना किया। उन्होंने कहा कि महा-जलाभिषेक के लिए पवित्र नदियों से जल लाया जाएगा। हमें अब तक राजनीतिक स्वतंत्रता मिली है लेकिन धार्मिक, आर्थिक और सांस्कृतिक स्वतंत्रता अब तक नहीं मिली है।

उन्होंने आगे कहा, “ये मस्जिद नहीं ईदगाह है और इसका मतलब है सार्वजनिक बैठक स्थल। ऐसे में ये विवादित कैसे हुई। यहाँ कोई भी कभी भी जा सकता है। ईदगाह में हम खोदाई करेंगे तो आज भी ठाकुर केशवदेव मंदिर से जुड़ी मूर्तियाँ निकलेंगी। हम उसी पवित्र स्थान पर जलाभिषेक करेंगे। हमारी इच्छा है कि बाल गोपाल वहीं रहें।”