समाचार
रूस-यूक्रेन संकट- आईएएफ यूके में होने वाले बहु-पक्षीय युद्धाभ्यास में सम्मिलित नहीं होगा

यूक्रेन संकट से उत्पन्न स्थिति को देखते हुए भारतीय वायुसेना (आईएएफ) ने अगले माह ब्रिटेन में होने वाले बहुपक्षीय हवाई अभ्यास में अपने लड़ाकू विमानों को नहीं भेजने का निर्णय किया।

आईएएफ ने कोबरा वॉरियर अभ्यास के लिए अपने विमान को नहीं भेजने की घोषणा यूके के वैडिंगटन में 6 से 27 मार्च तक होने वाले अभ्यास में अपनी भागीदारी की पुष्टि के तीन दिन बाद की है।

आईएएफ ने ट्वीट किया, “हाल ही की घटनाओं को देखते हुए आईएएफ ने यूके में कोबरा वॉरियर 2022 अभ्यास हेतु अपने विमानों को तैनात नहीं करने का निर्णय किया है।”

हालाँकि, भारतीय वायुसेना ने स्पष्ट रूप से अभ्यास में सम्मिलित होने के कारणों का उल्लेख नहीं किया लेकिन यह पता चला है कि रूसी सैन्य हमले के बाद यूक्रेन में गहराते संकट की वजह से यह निर्णय लिया गया।

आईएएफ की यह घोषणा भारत के यूक्रेन के विरुद्ध रूसी सैन्य आक्रमण पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के प्रस्ताव पर मतदान से दूर रहने के कुछ घंटों बाद आई है।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि प्रस्ताव से बचते हुए भारत ने संकट के समाधान के लिए बीच का रास्ता निकालने और वार्ता व कूटनीति को बढ़ावा देने के लिए सभी संबंधित पक्षों तक पहुँचने का विकल्प बरकरार रखा।

बुधवार को भारतीय वायुसेना ने घोषणा की थी कि वह पाँच तेजस हल्के लड़ाकू विमानों (एलसीए) के बेड़े के साथ कोबरा योद्धाभ्यास में भाग लेगा।

आईएएफ ने कहा था, “इसका मुख्य उद्देश्य भाग लेने वाली वायु सेनाओं के मध्‍य परिचालन प्रदर्शन करना और श्रेष्‍ठ प्रथाओं को साझा करना है। इससे युद्ध क्षमता को बढ़ाना और मित्रता के बंधन को मजबूत करना है।”