समाचार
उत्तर कोरिया में खाद्य संकट पर किम जोंग उन ने लोगों से 2025 तक कम खाने को कहा

उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन ने लोगों से 2025 तक कम खाने के लिए कहा है क्योंकि देश गंभीर खाद्य संकट का सामना कर रहा है।

डीएनए इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, 37 वर्षीय उत्तर कोरियाई नेता ने एक बयान में कहा, “लोगों की खाद्य स्थिति अब तनावपूर्ण हो रही है क्योंकि कृषि क्षेत्र अपनी अनाज उत्पादन योजना को पूरा करने में विफल रहा है।”

उत्तर कोरिया में चल रहे इस खाद्य संकट के पीछे प्राकृतिक आपदाएँ, कम मशीनीकरण स्तर और अपर्याप्त कृषि सामग्री कथित तौर पर प्रमुख कारण हैं।

इसके अलावा, कोविड-19 महामारी के साथ 2020 में तबाही वाले तूफान ने देश में खाद्य संकट को बढ़ा दिया है। सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के केंद्रीय सैन्य आयोग ने उत्तर कोरिया में विकट खाद्य संकट पर विचार करने के लिए दक्षिण हामग्योमग में एक बैठक की।

संयुक्त राष्ट्र (यूएन) विश्व खाद्य कार्यक्रम के अनुसार, संपूर्ण उत्तर कोरिया की आबादी का करीब 40 प्रतिशत कुपोषित बताया जाता है।

रेडियो फ्री एशिया की रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में बताया गया कि देश में इस वर्ष लगभग दो माह की खपत के लिए लगभग 8,60,000 टन भोजन की कमी होगी।