समाचार
स्मृति ईरानी ने दशहरा पर अमेठी के मंदिरों का दौरा किया, रामलीला का हिस्सा भी बनीं

केंद्रीय मंत्री व अमेठी से सांसद स्मृति ईरानी ने दशहरा के अवसर पर दिन भर की यात्रा के दौरान विभिन्न मंदिरों का दौरा किया। उन्होंने अमेठी की रामलीला में भाग लिया। राम, सीता और लक्ष्मण की भूमिका निभाने वाले कलाकारों की उपस्थिति में समारोह का हिस्सा बनीं। उन्होंने रामलीला में प्रदर्शन करने वाले कलाकारों की आरती भी की।

स्मृति ईरानी ने अपने लोकसभा क्षेत्र के लोगों के साथ त्यौहार मनाया, जो पूर्व में कांग्रेस नेता राहुल गांधी का गढ़ था।

उन्होंने लाल चुनरी पहनी हुई थी, जो देवी दुर्गा की पूजा का प्रतीक है। अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने कथित तौर पर कोई राजनीतिक टिप्पणी नहीं की।

उन्होंने कथित तौर पर जगदीशपुर में तिलोई के अहोरवा भवानी मंदिर, गौरीगंज में दुर्गन भवानी मंदिर, संग्रामपुर में कलिकान भवानी मंदिर का दौरा किया।

गत सप्ताह उत्तर प्रदेश ने घोषणा की थी कि वह इस वर्ष 20 अक्टूबर को पड़ने वाली वाल्मीकि जयंती पर राम और हनुमान को समर्पित चुनिंदा मंदिरों में रामचरितमानस के सामूहिक पाठ का आयोजन करेगा।

स्मृति ईरानी के निर्वाचन क्षेत्र के मंदिरों का दौरा कार्यक्रम की तैयारियों के साथ मेल खाता है। राज्य संस्कृति विभाग के अंतर्गत आयोजित होने वाले समारोहों में उत्सव आयोजित करने के लिए समितियों का गठन किया जाएगा। मंदिरों की जानकारी, उनके जीपीएस लोकेशन व संपर्क विवरण और मंदिरों में समारोह के आस-पास प्रदर्शन करने वाले कलाकारों के विवरण को ध्यान में रखा गया है।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, अमेठी में रामलीला समारोह में भाग लेने के अतिरिक्त स्मृति ईरानी ने एक कलाकृति पोस्ट की, जो एक महिला को माँ दुर्गा के गालों पर सिंदूर लगाते हुए दिखाती है। यह एक अनुष्ठान है, जिसका पालन बंगाली महिलाओं द्वारा देवी दुर्गा को विदा करते समय किया जाता है।”