समाचार
संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन लोकसभा में पारित कृषि कानून वापसी विधेयक

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन लोकसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि कानून वापसी विधेयक पेश किया। विपक्षी सांसदों के हंगामे के मध्य बिना किसी चर्चा के ही कृषि कानून निरसन विधेयक 2021 पारित हो गया।

एबीपी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, विवादित तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने के लिए लोकसभा में प्रस्तुत विधेयक पटल पर रखे जाने के कुछ मिनटों के भीतर ही पारित हो गया। हालाँकि, लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने सदन में विधेयक पर चर्चा की मांग की थी।

माना जा रहा है कि अब कृषि कानून निरसन विधेयक 2021 को राज्यसभा में प्रस्तुत किया जाएगा। दोपहर तक बिल पेश हो जाएगा और वहाँ भी बिना चर्चा के ध्वनिमत के साथ पास हो सकता है।

भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा, “जिन 700 किसानों की मृत्यु हुई है, उनको ही इस विधेयक के वापस होने का श्रेय जाता है। एमएसपी भी एक बीमारी है। केंद्र सरकार व्यापारियों को फसलों की लूट की छूट देना चाहती है इसलिए आंदोलन चलता रहेगा।”

सपा सांसद शफीक उर रहमान वर्क ने कहा कि केंद्र सरकार अपनी मर्जी से कानून लाती है और फिर उसे रद्द कर देती है। इस पर भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा ने कहा कि कानून रद्द होने वाला विधेयक पास हो चुका है। अब इस मसले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।