समाचार
अफगानिस्तान का आईएस-के भारत के जंगलों में बनाना चाहता अपना ठिकाना- एनआईए

अफगानिस्तान में सक्रिय इस्लामिक स्टेट-खुरासान (आईएस-के) भारत के पश्चिम बंगाल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात के जंगलों में अपना प्रशिक्षण शिविर बनाना चाहता है। इसकी जानकारी राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनआइए) द्वारा गिरफ्तार आतंकियों से पूछताछ में हुई।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, गत माह बेंगलुरु में आईएस मामले में दाखिल किए गए आरोप-पत्र में एनआईए ने इसका उल्लेख किया है। एनआईए ने साफ किया कि आईएस की योजना सिर्फ कागज़ों तक ही सीमित है। ऐसा करने से पहले ही आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया गया था।

जाँच एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “गिरफ्तार आतंकियों का मानना था कि देश में नक्सली लंबे समय से जंगलों में अपना ठिकाना बनाकर सक्रिय हैं। उन्हीं की तरह आईएस भी अपना ठिकाना बनाना चाहता है। इसके लिए स्थानीय युवाओं की ऑनलाइन भर्ती की तैयारी थी। हालाँकि, इन क्षेत्रों से अब तक किसी स्थानीय युवा के आईएस में शामिल होने की बात सामने नहीं आई है।”

वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, पूरे षड्यंत्र में अफगानिस्तान में आईएस-के में सक्रिय भारतीय आतंकियों की अहम भूमिका सामने आ रही है। अफगानिस्तान में लगभग 200 भारतीय आतंकी सक्रिय हैं। इनमें से 25 भारत में वांछित हैं और जाँच एजेंसियाँ उन्हें भगौड़ा घोषित कर चुकी है। ये लंबे समय से देश में अपनी जड़ें मजबूत करने की फिराक में हैं।