समाचार
अडानी ने विश्व का सबसे बड़ा हरित हाइड्रोजन पारिस्थितिक तंत्र बनाने हेतु किया समझौता

फ्रांसीसी बहुराष्ट्रीय ऊर्जा कंपनी टोटल एनर्जीज ने अडानी न्यू इंडस्ट्रीज लिमिटेड (एएनआईएल) में 25 प्रतिशत भागीदारी प्राप्त करने के लिए अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड (एईएल) के साथ एक समझौता किया।

एएनआईएल भारत में हरित हाइड्रोजन के उत्पादन और व्यावसायीकरण के लिए एईएल और टोटल एनर्जीज का विशेष मंच होगा।

टोटल एनर्जीज ने मंगलवार (14) को एक बयान में कहा, “एएनआईएल ने 2030 तक प्रति वर्ष 10 लाख मीट्रिक टन हरित हाइड्रोजन (एमटीपीए) के उत्पादन का लक्ष्य तय किया है।”

बयान के अनुसार, यह साझेदारी दोनों कंपनियों की उल्लेखनीय पूरकता पर आधारित है।

अडानी इंटरप्राइजेज के एक बयान के अनुसार, “एएनआईएल की महत्वाकांक्षा आगामी 10 वर्षों में हरित हाइड्रोजन और संबंधित पारिस्थितिक तंत्र में 50 अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक निवेश करने की है। एएनआईएल 2030 से पूर्व 10 लाख टन प्रति वर्ष की हरित हाइड्रोजन उत्पादन क्षमता विकसित करेगा।”

समझौते के बाद टोटल एनर्जीज के अध्यक्ष और सीईओ पैट्रिक पॉयने ने कहा, “हम इस समझौते से बहुत खुश हैं, जो भारत में अडानी समूह के साथ हमारे गठबंधन को और मजबूत करता है और भारत की प्रचुर मात्रा में कम लागत वाली अक्षय ऊर्जा क्षमता के मूल्यांकन में योगदान देता है।”

उन्होंने कहा, “भविष्य में 10 लाख टन प्रतिवर्ष हरित हाइड्रोजन का उत्पादन क्षमता से कंपनी को नए डीकार्बोनाइज़्ड मोलेक्यूल की भागीदारी को बढ़ाकर कुल ऊर्जा उत्पादन और बिक्री का 25 प्रतिशत करने में सहायता मिलेगी।”

अडानी समूह के अध्यक्ष गौतम अडानी ने कहा, “अडानी-टोटल एनर्जीज के संबंधों का रणनीतिक महत्व व्यापार और महत्वाकांक्षा के स्तर पर बहुत अधिक है। विश्व में सबसे बड़ी हरित हाइड्रोजन कंपनी बनने की हमारी यात्रा में टोटल एनर्जीज के साथ साझेदारी कई आयामों को साथ में जोड़ती है, जिसमें आरएंडडी, मार्केट पहुंच और अंतिम उपभोक्ता की समझ सम्मिलित है।”