समाचार
जेएनयू कुलपति से मिले एबीवीपी सदस्य, हमलों से विद्यार्थियों की सुरक्षा की मांग की

आरएसएस से संबद्ध अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् (एबीवीपी) की जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) इकाई ने बुधवार को कुलपति शांतिश्री धूलिपदी पंडित और विश्वविद्यालय के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों से भेंट कर छात्रों की सुरक्षा की मांग की।

एबीवीपी ने एक बयान में कहा कि विश्वविद्यालय परिसर में हाल ही में रामनवमी के अवसर पर कावेरी छात्रावास के निवासियों के विरुद्ध बड़े पैमाने पर हिंसा हुई।

उन्होंने कहा, “हमने विश्वविद्यालय प्रशासन के अधिकारियों को बताया कि हमारे कार्यकर्ताओं को बहिष्कृत किया जा रहा है और वर्ग समूहों से बाहर किया जा रहा है। हमने मांग की कि विश्वविद्यालय आगे के हमलों से वामपंथी हमले के पीड़ितों की सुरक्षा सुनिश्चित करे।”

इस बीच, एक बयान में कावेरी छात्रावास समिति और मेस समिति ने मांग की कि जेएनयू प्रशासन कार्यालय द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति को तत्काल वापस लिया जाए।

उन्होंने कहा, “कावेरी छात्रावास के वार्डन की हिंसा को रोकने के लिए पूरी तरह से अक्षमता व उपेक्षा के लिए एक स्वतंत्र जाँच की जानी चाहिए और उन्हें निलंबित किया जाना चाहिए। यदि जाँच में उन्हें दोषी पाया जाता है तो वार्डन को त्याग-पत्र दे देना चाहिए।”

बयान में कहा गया कि जेएनयू प्रशासन के प्रतिनिधियों को कावेरी छात्रावास में हमले के पीड़ितों से मिलना चाहिए, हिंसा के अपराधियों की पहचान करनी चाहिए और उसके अनुसार कानूनी कार्रवाई शुरू करनी चाहिए।