समाचार
बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए 89% आवश्यक भूमि का अधिग्रहण हो चुका- रेल मंत्री

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बुधवार को जानकारी कि केंद्र ने मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए आवश्यक लगभग 89 प्रतिशत भूमि का अधिग्रहण कर लिया है।

रेल मंत्री ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, “मुंबई-अहमदाबाद हाई स्पीड रेल (एमएएचएसआर) के निष्पादन में विशेष रूप से महाराष्ट्र राज्य में भूमि अधिग्रहण और अनुबंधों को अंतिम रूप देने में विलंब के साथ कोविड-19 के प्रतिकूल प्रभाव की वजह से देरी हुई है।”

उन्होंने कहा कि एमएएचएसआर परियोजना के लिए आवश्यक कुल 1,396 हेक्टेयर भूमि में से लगभग 89 प्रतिशत लगभग 1,248 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया जा चुका है।

अश्विनी वैष्णव ने बताया कि महाराष्ट्र में परियोजना के लिए आवश्यक कुल 297.81 हेक्टेयर में से 68.65 प्रतिशत का अधिग्रहण कर लिया गया है।

उन्होंने कहा, “महाराष्ट्र के पालघर जिले के पाँच गाँवों ने एमएएचएसआर परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण का विरोध कर ग्राम सभा में प्रस्ताव पारित किए हैं। ये पाँच गाँव वारखुंटी, कल्लाले, मान, खानीवाड़ी और सखारे हैं।”

अश्विनी वैष्णव ने कहा, “गुजरात में बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए आवश्यक 954.28 हेक्टेयर में से 98.76 प्रतिशत का अधिग्रहण कर लिया गया है। केंद्र ने दादरा और नगर हवेली में परियोजना के लिए आवश्यक 7.9 हेक्टेयर भूमि में से 100 प्रतिशत का अधिग्रहण किया है।”

मंत्री ने कहा, “नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड परियोजना के लाभों, अच्छी मुआवजे की राशि और प्रभावित गाँवों के भूमिहीनों को पुनर्वास प्रदान कर रही है।”