समाचार
नोएडा में पूर्व आईपीएस के घर से 700 निजी लॉकर बरामद, छापेमारी और पूछताछ जारी

नोएडा के सेक्टर-50 में पूर्व आईपीएस के आवास पर आयकर विभाग की छापेमारी जारी है। घर के तहखाने से 700 निजी लॉकर बरामद किए गए। वहाँ से 3 करोड़ रुपये से अधिक बरामद हो चुके हैं।

नवभारत टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, विभाग को सूचना मिली थी कि नोएडा के एक घर में चलाई जा रही कंपनी के तहत निजी लॉकर की सुविधा है, जहाँ कई करोड़ रुपये रखे गए हैं।

बताया जा रहा कि इस आवास में पूर्व आईपीएस आरएन सिंह का बेटा सुयश और उनका परिवार रहता है। आरएन सिंह पत्‍नी के साथ अपने गृह जनपद मिर्जापुर में रहते हैं। ये लॉकर अन्‍य लोगों के बताए जा रहे हैं, जिन्‍हें किराये पर दिया जाता था।

आयकर विभाग जब लॉकरों को किराए पर लेने वाले लोगों तक पहुँची तो वे इसे अपना मानने से मना कर रहे हैं। अब ये सारा पैसा सरकारी खातों में जाएगा।

मंगलवार तक करीब 10 लॉकर ऐसे चिह्नित कर खोले गए, जिनके मालिक का नाम व पता स्पष्ट नहीं था। नगदी को गिनने के लिए तीन उपकरण लगाए गए हैं। नगदी इतनी अधिक है कि लगातार गिनती के कारण वे भी बार-बार रुक जाती हैं।

पहले दिन करीब 16 लॉकर सामने आए। इसमें 14 की जाँच पूरी हो गई है और उसके मालिकों से पूछताछ भी हुई है। सूत्रों की मानें तो अब तक कुल 700 लॉकर गिनती में सामने आए हैं। आयकर की टीम ने किराए पर लॉकर देने की सुविधा चलाने वाले एजेंसी के कर्मचारियों को तलब कर सभी का ब्योरा लिया है।

सूत्रों के मुताबिक, रिटायर्ड आईपीएस के घर पर चल रही मैनसम नोएडा वॉल्ट्स एजेंसी शशि नाम की महिला पर है। वह महिला रिटायर्ड आईपीएस के परिवार से हैं। इसमें कई रिटायर्ड और मौजूदा आईएएस, आईपीएस, पीसीएस, डॉक्टर, कारोबारियों के लॉकर हैं।